सुवा लहकत हे डार म | Suva Lahkat he dar ma | CG SONG Lyrics

हेलो दोस्तों स्वागत है आप सभी का कमरे इस ब्लॉग पोस्ट में । जैसा की दोस्तों आप सभी को पता है की छत्तसगढ़ में कई सारे लोक गीत प्रचलित है उनमे से के लोकगीत के रूप में छत्त्तीसगढ़ के बानी और छत्तीसगढ़ के माटी की सौंध को बनाये रखने के लिए छत्तीसगढ़ के संस्कृति , छत्तीसगढ़ के लोक कला , आदि के साथ में हमें जुड़े रहा रहना चाहिए .

तो दोस्तों छत्तीसगढ़ के लुप्त होते हुए संस्कृति को बचाने के लिए प्रदेश के कई सारे कलाकार इसका अथक प्रयास कर रहे है और अपनी वाणी , अपने कला के माध्यम से छत्तीसगढ़ के सस्कृति को बचाये रखा है ।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम छत्तीसगढ़ के सुवा गीत को जो की छत्तीसगढ़ के सुवा गीत है को लिरिस्क्स किय हुए है । जिन्हे आवाज दे चुके है अलका चंद्राकर जी . तो चलिए दोस्तों इस सुवा गीत और माटी की अमित छाप को आगे बढ़ाते है ।

Suva Lahkat he dar ma | सुवा लहकत हे डार म | CG SONG Lyrics in Hindi |

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना,तरी हरी नाना,नाना नाना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

सुवा लहकत हे…..सुवा लहकत हे डार मा ,पाका रे बिही म सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार मा,पाका रे बिही म सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार मा ,पाका रे बिही मा…सुवा लहकत हे।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना, तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना

तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

का चारा चरथे मोर पड़की परेवना,

का चारा चरथे मोर पड़की परेवना,

का चारा चरथे मोर पड़की परेवना,

का चारा चरथे मोर सुन्दर मंजुरना।

पाका रे बिही म…सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार म ,पाका रे बिही म…सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार म ,पाका रे बिही म…सुवा लहकत हे।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना,तरी हरी नाना,ना ना ना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

कनकी चाउर चरथे मोर पड़की परेवना,

कनकी चाउर चरथे मोर पड़की परेवना।

कनकी चाउर चरथे मोर पड़की परेवना।

साँप टेढुल चरथे मोर सुन्दर मंजुरना

पाका रे बिही म…सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार म ,पाका रे बिही म… सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार म ,पाका रे बिही म… सुवा लहकत हे।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ,

तरी हरी नाना,ना ना ना ना ना ना,

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना , तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

कोन मेर रईथे मोर पड़की परेवना।

कोन मेर रईथे मोर पड़की परेवना।

कोन मेर रईथे मोर पड़की परेवना।

कोन मेर रईथे मोर सुन्दर मंजुरना।

पाका रे बिही म…सुवा लहकत हे।

हो,सुवा लहकत हे डार म ,पाका रे बिही म… सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार म ,पाका रे बिही म… सुवा लहकत हे।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

खोंधरा म रईथे पड़की परेवना।

खोंधरा म रईथे पड़की परेवना।

खोंधरा म रईथे पड़की परेवना।

पहरी म रईथे मोर सुन्दर मंजुरना।

पाका रे बिही म…सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार मा ,पाका रे बिही म…सुवा लहकत हे।

सुवा लहकत हे डार मा ,पाका रे बिही म… सुवा लहकत हे।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना।

तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना। तरी हरी नाना ,नाना मोर सुवा ना ।

तरी हरी नाना,ना ना ना ना…..


टॉप 20 CG Kavita | Chhattisgarhi Kavita | छत्तीसगढ़ी कविता

चुरकी मुरकी छत्तीसगढ़ी कहानी | Chhattisgarhi Kahani Churki Au Murki

20 Chhattisgarhi Hasya Kavita || छत्तीसगढ़ी हास्य कविता


 

Leave a Reply