भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड | Bharat Petroleum Corporation Limited (BPCL)

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड कंपनी प्रोफाइल, मालिक, फाउंडर, चैयरमेन, नेटवर्थ, CEO, प्रोडक्ट, विज़न & मिशन और अधिक (Bharat Petroleum Corporation Limited (BPCL) company success in hindi)

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ( बीपीसीएल ) भारत का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी स्वामित्व वाला डाउनस्ट्रीम तेल उत्पादक है, इसके संचालक की देखरेख पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय करता है। बीपीसीएल भारत में तीन रिफाइनरियों का संचालन करता है जो कोच्ची, बिना और मुंबई में स्थित है।

 

बायो/विकी (Bio/Wiki)

नाम BPCL
लीगल नाम भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (Bharat Petroleum Corporation Limited)
प्रकार (Type) केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम
इंडस्ट्री ऊर्जा तेल और गैस

 

प्रोफाइल (Profile)

शुरुवात की तारीख 1976
मुख्य लोग श्री. जी. कृष्णकुमार (Chairman & MD)
मुख्यालय मुंबई, महारष्ट्र
स्टॉक एक्सचेंज BSE :500547, NSE :BPCL
मार्किट कैप (Market Cap) ₹1,33,539 करोड़
राजस्व (Revenue) ₹4,74,685 करोड़ (वित्त वर्ष2023)
कुल संपत्ति (Total Asset) ₹1,88,109 करोड़ (वित्त वर्ष2023)
नेटवर्थ (Net Worth) ₹53,522 करोड़ (वित्त वर्ष2023)
मालक भारत सरकार
वेबसाइट www.bharatpetroleum.in

 

कंपनी के बारे में (About Company)

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड भारत सरकार के पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के स्वामित्व में एक भारतीय सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम (पीएसयु) है।  बीपीसीएल को पहेले भारत रीफाइनरीज लिमिटेड के नाम से जाना जाता था, 1976 में इसका नाम बदल कर भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड रखा गया था। दुनिया के सबसे बड़े पीएसयु की फार्च्यून सूचि में बीपीसीएल को 2020 309वां स्थान मिला था, और साल 2023 में फ़ोर्ब्स की “ग्लोबल 2000” सूची में 1052 वां स्थान मिला था।

 

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड का इतिहास

  • भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ( बीपीसीएल ) के नाम से जानी जाने वाली कंपनी की शुरुआत रंगून ऑयल एंड एक्सप्लोरेशन कंपनी के तौर पर हुई थी, इसे भारत पर ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के दौरान असम और म्यांमार में नई खोजों का पता लगाने के लिए स्थापित किया गया था ।
  • 1889 के दौर में विशाल औद्योगिक विकास के दौरान, दक्षिण एशियाई बाजार में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बर्मा ऑयल कंपनी थी। हालाँकि 1886 में स्कॉटलैंड में निगमित, कंपनी शेफ रोहित ऑयल कंपनी के उद्यमों से विकसित हुई, इसे 1871 में ऊपरी बर्मा में आदिम हाथ से खोदे गए कुओं से उत्पादित कच्चे तेल को शुद्ध करने के लिए बनाया गया था।
  • एशियाटीक पेट्रोलियम कंपनी (भारत) ने बर्मा ऑयल कंपनी के साथ 1928 में, सहयोग शुरू किया था। शेल, एशियाटीक पेट्रोलियम रॉयल डच और रोथ्सचाइल्ड्स का एक संयुक्त उद्यम था, जोके जॉन डी. रॉकफेलर के स्टैंडर्ड ऑयल के एकाधिकार को संबोधित करने के लिए बनाया गया था।
  • इस गठबंधन के कारण बर्मा-शेल ऑयल स्टोरेज एंड डिस्ट्रीब्यूटिंग कंपनी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड का गठन हुआ था। और फिर बर्मा शेल ने केरोसिन के आयात और विपणन के साथ अपना संचालन शुरू किया।
  • 1950 के दौर में भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने भारत में घरों में LPG सिलेंडर बेचना शुरू किया और अपने डीलिवरी नेटवर्क को बढ़ाया। इसके साथ साथ अपने नेटवर्क को बढ़ाने के लिए केरोसिन, डीज़ल और पेट्रोल को डिब्बों में भी बेचना शुरू किया।
  • बर्मा शेल ने भारत सरकार के साथ एक समझौते के तहत 1951 में, ट्राम्बे (माहुल, महाराष्ट्र) में एक रिफाइनरी का निर्माण शुरू किया।

 

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड उत्पाद

  • गैस
  • डीजल
  • कमर्शियल
  • एविएशन टरबाइन फ्यूल
  • मेक सिनकॉम
  • पेट्रोलियम
  • प्रोफिसिएंसी टेस्टिंग
  • लुब्रिकेंट्स
  • इंटरनेशनल ट्रेड
  • रिफायनरीज
  • लुब्रीकेंट
  • भारत गैस
  • पेट्रोकेमिकल्स
  • मेक कनेक्ट

 

राष्ट्रीयकरण  (Nationalization)

  • 1976 में, कंपनी को विदेशी तेल कंपनियों के राष्ट्रीयकरण अधिनियम के तहत राष्टरीयुक्त किया गया था ESSO (1974), बर्मा शेल (1976) और कैलटेक्स (1977) . बर्मा शेल को भारत सरकार ने 24 जनवरी 1976 में भारत रिफाइनरिज लिमिटेड बनाने के लिए अपने अधीन कर लिया था।
  • 01 अगस्त 1977 को इसका नाम बदलकर भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड कर दिया गया।
  • 2003 में, भारत सरकार ने कंपनी का निजीकरण करने की कोशिश की थी। हालाँकि सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन की याचिका के बाद सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को संसद की मंजूरी के बिना हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम का निजीकरण करने से रोक दिया।
  • मई 2016 में, संसद ने निरसन और संशोधन अधिनियम 2016 पारित किया, जिसने कंपनी का राष्ट्रीयकरण करने वाले कानून को निरस्त कर दिया।
  • भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ( बीपीसीएल ) को 2017 में महारत्न का दर्जा प्राप्त हुआ।
  • बीपीसीएल ने 2021 में, अगले पाँच सालो में पेट्रोकेमिकल क्षमता और शोधन क्षमता में सुधार के लिए 4.05 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश करने की योजना की घोषणा की।

 

संचालन (Operation)

  • मुंबई रिफाइनरी : मुंबई  रिफाइनरी महाराष्ट्र में मुंबई के पास स्थित है। इसकी कैपेसिटी 13 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष है।
  • कोच्ची रिफाइनरी : यह रिफाइनरी केरल के कोच्ची के पास स्थित है। इसकी कैपेसिटी 5 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष है।
  • बिना रिफाइनरी : बिना रिफाइनरी मध्य प्रदेश के सागर जिले के बिना के पास स्थित है। इसकी कैपेसिटी 8 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष है।

 

सहायक कंपनिया & जॉइंट वेंचर

  • भारत पेट्रो रिसोर्सेज लिमिटेड (बीपीआरएल)
  • बीपीसीएल-केआईएएल फ्यूल फार्म प्राइवेट लिमिटेड
  • पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड
  • इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड
  • साबरमती गैस लिमिटेड
  • सेंट्रल यूपी गैस लिमिटेड
  • महाराष्ट्र नेचुरल गैस लिमिटेड
  • हरिद्वार नेचुरल गैस प्राइवेट लिमिटेड
  • गोवा नेचुरल गैस प्राइवेट लिमिटेड
  • भारत स्टार्स सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
  • दिल्ली एविएशन फ्यूल फैसिलिटी प्राइवेट लिमिटेड
  • मुंबई एविएशन फ्यूल फार्म फैसिलिटी प्राइवेट लिमिटेड
  • कन्नूर इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड
  • कोच्चि सलेम पाइपलाइन प्राइवेट लिमिटेड
  • जीएसपीएल इंडिया गैसनेट लिमिटेड
  • फिनो पेटेक लिमिटेड
  • पेट्रोनेट सीआई लिमिटेड (पीसीआईएल)
  • भारत रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड (बीआरईएल)
  • रत्नागिरी रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड
  • आईएचबी लिमिटेड
  • उज्ज्वला प्लस फाउंडेशन

 

Read Also :- इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL)

FAQ

bpcl full form in hindi

बीपीसीएल का पूरा नाम “भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड” है।

भारत में कितने बीपीसीएल पेट्रोल पंप हैं?

भारत में कुल 13,648 बीपीसीएल पेट्रोल पंप है।

क्या बीपीसीएल एक सरकारी कंपनी है?

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) एक सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम (PSU) है, इसमें 31 मार्च 2023 तक भारत सरकार की 52.98% हिस्सेदारी है।

Leave a Comment