Bible Stories The Good Samaritan || Bible Stories Good Samaritan

  • Post author:
  • Post category:English
  • Post comments:0 Comments
  • Reading time:9 mins read
  • Post last modified:October 3, 2022

 ENGLISH STORY 

The capture of the Lord Jesus Luke 22:47 – 23:56 In today’s post we are going to tell you in detail how this famous person was crucified. You can see it by the Lord’s description of Luke 22:47 – 23:-56.

So friends, without any delay, how Jesus Christ was offered happy, what was the reason why it was offered, read about all these in today’s post and move forward

How Jesus Christ was crucified (bible stories good samaritan)

The Bible tells us that when the Lord Jesus Christ was in his last days, he came with his disciples to a place called gadsammi.

He came to that place and told his disciples that as long as you take rest here, I go there and pray. Then Lord Patras took Yasu and Yahunak forward and started living that my heart is sad today even my life is going out, you stay here and you both keep awake with me.

Then the Lord fell on his face after going some distance ahead and started praying – in prayer, he should say the same word three times to God the Father, that Father, if possible, this cup should be taken away from me. But not mine but only your wish should be fulfilled.

When he came back after completing his prayer, he found his disciples asleep and told them to stay awake and keep praying, you don’t get tempted.

The prayer that Lord Jesus offered after the gadsammi was the heart breaking prayer of Lord Jesus Christ. While he was praying, sweat was pouring out of his body in the form of drops.

Jesus Christ Himself knew that the path of krus is so difficult, because of so much fear, it is possible to pray to God the Father, then this calamity should be removed, but we see that even there the Lord expressed his will by giving form to the one who sent him. kept .

While he was talking about picking up his disciples, the chief petitioners, the soldiers with weapons in their hands, holding torches of fire, reached there. Judas Iseriyoti was also among those who caught Jesus.

He sold the Lord Jesus Christ in exchange for 30 silver coins and he told the farisiyo that the one I kiss would be the Lord Jesus Christ.

When he came again to Sumit carrying the spices of the soldiers, then Judas Iskarioti came to Jesus Christ and started kissing him more.

Seeing its action, Lord Jesus Christ said – O friend, do the work for which you have come here soon.

When the soldiers came forward to capture Jesus Christ, the patras disciple cut off his ear and the one whose ear was cut off was Malkhush. Then the same Lord Jesus Christ touched his work and made him good.

Lord Jesus Christ said to the catchers there – Those who wield the sword are also cut and destroyed like a sword.

The lord said to the patras that don’t you know that if I can beg my father then he will send more than 12 platoons.

Jesus Christ allowed all this to happen because He was to complete the work of man’s salvation.

After some time Saini caught Jesus Christ and took him to the high solicitor named Capa kaifa and the chief petitioner and the whole assembly began to falsely accuse him of killing Jesus.

Then the great petitioner from me asks the Lord – why don’t you answer? You are the son of God that you should tell us?

Then the Lord Jesus Christ says to that great petitioner – You yourself said that I also say that I wish to see the Son of man sitting on the right and coming on the clouds.

Hearing all this, he started fading his clothes and saying blasphemed God and it deserves to be killed. Then the people standing there thumped on the face of Jesus Christ, beat him with kicks and started slapping and ridiculing him.

After the assembly, a large gathering of petitioners takes the Lord Jesus Christ to the filatus. She took him to filatus and filatus asked the Lord Jesus, are you the king of the Jews?

Then the Lord Jesus Christ calls him telling you himself.

Then at the same time the petitioner and the great petitioner were accusing him but the Lord kept silent and did not answer them.

Then after Lord Jesus filatus says that he has no blame on this person i.e. Lord Jesus Christ, but the chief petitioner kept blaming him till the end.

Seeing the accuser of the high petitioner, filatus sent Jesus Christ to the hirodiyas.

When the Lord Jesus Christ arrived near the hirodiyas, the hirodiyas were very pleased to see him that he had heard a lot about the Lord Jesus Christ. hirodiyas kept asking Lord Jesus Christ many things but Lord Jesus Christ did not answer any of his questions.

For not answering any of the questions of the Lord Jesus Christ, Hirodiyas along with his soldiers made fun of him and sent him to filatus wearing a gaudy robe.

When he came back to filatus, the chief petitioner and chief began to plead with the people that I have no friend nor hirodiyas in the Lord Jesus Christ.

Then filatus tells them that I get the whips, then the soldiers present whipped the Lord Jesus Christ, but both the chief petitioner and the high priest wanted to crucify the Lord Jesus Christ, so they started putting pressure on the filatus.

The soldiers of filatus put the Lord Jesus Christ, after that a crown of thorns was wrapped over his head and he was dressed in baijni clothes slap him too.

Then the filatus left from there and left. Then he says to the people, look, I tell you again, I did not find any kind of fault in that man.

Then the filatus takes the Lord Jesus out of there wearing a crown of thorns and baijani clothes, when the chief petitioners and saw that they started shouting and saying that Him crucified, on the cross.

After this filatus used to release any one prisoner at the time of the festival, he had a prisoner of Barrabba Nama. Whom do you want me to leave for you, to Barabbas or to Jesus. who is called Christ.

Barabbas knew that the Lord Jesus Christ had been falsely implicated by the people.

Then the chief petitioners told the people that he should ask for Barrabba, then the hakibo asked him who should I leave for you, then the crowd gathered there took the name of Barrabba.

Then filatus asked them, then what should I do with this Jesus – then all the people present there shouted loudly and said, crucify him and crucify him.

When filatus saw that the people gathered there were demanding the crucifixion of Jesus. filatus then washed his hands in the water in front of the crowd and said that you only know that I am innocent of the blood of this righteous.

Then all the people said that its blood would be on us and on our children.

Then filatus released Barrabba and handed it over to Jesus to be crucified.

After handing over Jesus Christ, the soldiers of Rome took him out of the fort and started carrying him on the hill that shakes the skull. While carrying the Lord Jesus placed a heavy cross on his shoulders. And whispering through the city, they began to carry him through the roads towards the hill.

Then on the way he caught a man named Saimon and loaded the Lord’s Cross on him. The Lord Jesus Christ was so bled that he could not carry a heavy cross from him.

Then the soldiers caught Saimon Qureshi and caught him to carry the cross.

Seeing Lord Jesus in this condition nearby while taking the roads, tears were coming out of his eyes and started crying even louder.

Then the Lord Jesus Christ said to them that the daughters of Jerushan do not cry for me, cry for your sons.

When they reached the hill called Skull, the soldiers took off the clothes of the Lord Jesus Christ, laid him on the cross and put his hands and feet on the cross. And got it written on his cross that Jesus is the king of the Jews. And not only this, but two bandits were also hung on one side with him.

Then the soldiers who were there distributed the clothes of Lord Jesus Christ among themselves by putting a letter and they started insulting and making fun of Lord Jesus Christ.

When the Lord Jesus Christ was crucified, then at that time his mother Mary was standing beside the same man watching all this sight. And his mother’s disciples had left the Lord Jesus Christ and had run away somewhere.

When Lord Jesus Christ was hanging on the cross, he said from the cross – Father forgive them because they do not know what they do.

This prayer was made by the Lord Jesus Christ for those who crucified him. In the same way Lord Jesus Christ said 7 things from the cross.

When the Lord Jesus Christ was on the cross His sufferings were far from our imagination because at that time the cross was a humiliating punishment because friends it is written in the Scriptures that cursed is the one who hangs on the wood.

Lord Jesus Christ was innocent but he took the father of all of us on himself He who was spiritually unknown to you but he became a sinner for all of us we become a devotee of God in him and freed from sin and become a slave of righteousness.



ईसा मसीह को सूली पर क्यों चढ़ाया गया (good samaritan message)

प्रभु यीशु का पकड़ा जाना लुका 22:47 – 23:56 आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम इसी मशहूर को किस प्रकार से सूली पर चढ़ाया गया आज के इस पोस्ट में हम आपको डिटेल में संक्षिप्त रूप से बताने वाले हैं . इसका वर्णन प्रभु लुका 22:47 – 23:-56 तक आप इसे देख सकते हैं.

तो चलिए दोस्तों बिना किसी देरी के यीशु मसीह को कैसे खुश पर चढ़ाया गया क्या कारण था क्यों चढ़ाया गया इन सभी के बारे में आज की इस पोस्ट में पढ़ते हैं और आगे बढ़ते हैं

Bible Stories The Good Samaritan

बाइबल हमें बतलाती है कि जब प्रभु यीशु मसीह अपने अंतिम समय में थे तब वह gadsammi  नामक स्थान पर अपने शिष्यों के साथ में आए .

उन्होंने उस स्थान पर आकर अपने चेलों से कहा जब तक तुम यहां विश्राम कर लो मैं वहां जाकर प्रार्थना करता हूं . तब प्रभु patras यासू और याहूनक को आगे ले जाकर रहने लगे कि मेरा मन आज उदास है यहां तक कि मेरा प्राण निकला जा रहा है तुम यही ठहरो और मेरे साथ तुम दोनों जागते रहो .

तब प्रभु कुछ दूर आगे जाकर मुंह के बल गिर पड़े और प्रार्थना करने लगे- प्रार्थना में उन्होंने परमेश्वर पिता से तीन बार एक ही शब्द एक ही बात करें की है पिता यदि हो सके तो यह प्याला मुझसे टल जाए . परंतु मेरी नहीं तेरी ही इच्छा पूरी हो.

जब वह अपनी प्रार्थना को पूरा करके जब वापस आया तो वह अपने चेलों को सोया हुआ पाया और उनसे कहा कि जागते रहो और प्रार्थना करते रहो तुम परीक्षा में ना पड़ो .

gadsammi के बाद में प्रभु यीशु ने जो प्रार्थना की जो प्रभु यीशु मसीह की हृदय विदारक प्रार्थना थी. जब वह प्रार्थना कर रहा था तब उसके शरीर से पसीना बुंदू के रूप में निकल रहा था .

ईसा मसीह स्वयं जानते थे कि krus की राह इतना कठिन है इतना डर से इसलिए परमेश्वर पिता से विनती की हो सके तो यह विपत्ति हट जाए लेकिन हम देखते हैं कि वहां भी प्रभु ने अपना इच्छा को रूप करके उनको भेजने वाले की इच्छा को जाहिर किया रखा .

जब वह अपने चेलों को उठाकर बात कर ही रहा था तब प्रधान याचीको , सैनिकों आग की मसाल पकड़े हुए हाथों में हथियार भी थे वहां पर पहुंचे . यीशु कि पकड़ा पाने वालों में यहूदा इसकीरीयोती भी शामिल था .

उन्होंने 30 चांदी के सिक्कों के बदले में प्रभु यीशु मसीह को बेच डाला था और उसने farisiyo से यह कहा था कि जिसे मैं चुंबन करूंगा वही प्रभु यीशु मसीह होगा .

जब वह सैनिकों की फिर मसाल लिए हुए सुमित आ गए तब यहूदा इसकीरीयोती यीशु मसीह के पास में आकर के उसे अधिक चुंबन करने लगे .

इसकीरीयोती की हरकत को देखकर प्रभु यीशु मसीह ने कहा- हे मित्र जिस काम के लिए तू यहां आया है उसे तू शीघ्र कर ले .

जब यीशु मसीह को पकड़ने के लिए सैनिक आगे आए तो patras शिष्य ने उनके कान को काट डाला और जिसका कान काटा गया था उनका नाम मलखुश था . तब वही प्रभु यीशु मसीह ने उसके काम को छू कर उसे अच्छा कर दिया.

प्रभु यीशु मसीह ने पकड़ने वालों से वहां पर यह कहा – जो तलवार को चलाते हैं वह भी तलवार के समान ही कट कर नष्ट हो जाते हैं .

patras से प्रभु ने कहा कि क्या तुम नहीं जानते कि मैं अपने पिता से विनती कर सकता हूं तो वह 12 पलटन से अधिक भेज देगा .

यीशु मसीह ने यह सब इसलिए होने दिया कि उसे मनुष्य का उद्धार का कार्य पूरा करना था .

कुछ देर बाद सैनी यीशु मसीह को पकड़कर कैपा kaifa नामक महा याचक के पास में ले गए और प्रधान याचक और सारी महासभा उन पर यीशु को मार डालने के झूठे आरोप उन पर लगाने लगे.

तब मैं से महा याचक प्रभु से पूछता है- कि तू उत्तर क्यों नहीं देता ? तू परमेश्वर का पुत्र है कि तू हमसे कह दे?

तब प्रभु यीशु मसीह उस महा याचक से कहते हैं – तूने आप ही कह दिया कि मैं यह भी कहता हूं की मनुष्य की पुत्र को दाहिने और बैठे काश कि बादलों पर आते देखोगे .

यह सब सुनकर उसने अपने कपड़े faade और कहने लगा परमेश्वर की निंदा की और यह वध करने के योग्य है . तब वहां खड़े लोगों ने यीशु मसीह के मुंह के ऊपर thuka , उसे लातों से भी मारे और थप्पड़ मार कर उनका उपहास करने लगे .

महासभा के बाद याचीको की भारी सभा प्रभु यीशु मसीह को filatus के पास ले जाती है . filatus की पास ले गई और filatus ने प्रभु यीशु से पूछा क्या तू यहूदियों का राजा है?

तब प्रभु यीशु मसीह उसे कहते हैं आप ही कह रहा.

तब ठीक उसी समय याचक और महा याचक उन पर आरोप लगा रहे थे लेकिन प्रभु ने मौन रहकर उनका कोई उत्तर नहीं दिया .

तब प्रभु यीशु के बाद filatus कहता है कि वह इस व्यक्ति यानी प्रभु यीशु मसीह के ऊपर कोई दोस नहीं परंतु प्रधान याचक उन पर अंत तक दोष लगाते रहे .

महा याचक के दोष लगाने को देखकर filatus ने वह यीशु मसीह को  hirodiyas के पास में भेज दिया .

जब प्रभु यीशु मसीह है hirodiyas के पास में पहुंचे hirodiyas ने उन्हें देखकर बहुत ही प्रसन्न हुआ कि उसने प्रभु यीशु मसीह के बारे में बहुत कुछ सुना था . hirodiyas प्रभु यीशु मसीह से बहुत सारी बातें पूछते रहा लेकिन प्रभु यीशु मसीह ने उनकी एक भी प्रश्नों का उत्तर नहीं दिया .

प्रभु यीशु मसीह के एक भी प्रश्नों के उत्तर ना देने के कारण hirodiyas ने अपने सैनिकों के साथ मिलकर उसका मजाक उड़ाया और उसे एक भड़कीले वस्त्र पहनाकर filatus के पास में भेज दिया .

जब वह  filatus के पास वापस आए तो महायाचक और प्रधान याचिका और लोगों से करने लगे कि मैंने प्रभु यीशु मसीह में कोई दोस ना ही hirodiyas  ने .

तब filatus ने उनसे कहता है  मैं कोड़े लगवा देता हूं तब उपस्थित सैनिकों ने प्रभु यीशु मसीह को कोड़े लगाए लेकिन प्रधान याचक और महा याचक दोनों प्रभु यीशु मसीह को सूली पर चढ़ाना चाहते थे इसलिए उन्होंने filatus के ऊपर दबाव डालना शुरू किया .

filatus के सिपाहियों ने प्रभु यीशु मसीह लगाए उसके बाद में उसके सिर के ऊपर कांटो का मुकुट बनाकर लपेटा गया और उसे baijni वस्त्र पहनाया कथा उसका मजाक उड़ाते हुए कहने लगे – की हे यहूदियों के राजा प्रणाम और उसके बाद उसे थप्पड़ भी मारे .

तब filatus वहां से निकल कर चले गए. फिर लोगों से कहता है देखो मैं तुमसे फिर से कहता हूं मैंने उस पुरुष में किसी भी प्रकार के दोष नहीं पाए .

तब filatus प्रभु यीशु को कांटो के मुकुट और baijani वस्त्र पहनाकर वहां से बाहर निकालते हैं जब प्रधान याचको और ने देखा कि वे चिल्ला चिल्ला कर कहने लगे उसे सूली पर चढ़ा , सूली पर .

इसके बाद  filatus पर्व के समय किसी भी एक कैदी को छोड़ दिया करता था उनके यहां एक बररब्बा नामा का कैदी था . तुम किसको चाहते हो कि तुम्हारे लिए मैं उसको छोड़ दो बररब्बा या यीशु को. जो मसीह कहलाता है .

बररब्बा जानता था कि प्रभु यीशु मसीह को लोगों ने झूठे आरोप से पकड़ाया है .

तब प्रधान याचकों ने लोगों से कहा कि वह बररब्बा वह मांग ले तब hakibo ने उनसे पूछा कि तुम्हारे लिए मैं किस को छोड़ दूं तब वहां एकत्रित लोगों की भीड़ ने बररब्बा का नाम लिया .

तब   filatus ने उनसे पूछो तो फिर मैं इस यीशु का क्या करूं- तब वहां उपस्थित सभी लोगों ने जोर-जोर से चिल्ला कर कहा कि उसे सूली पर चढ़ा दो सूली पर चढ़ा दो.

जब   filatus ने देखा कि वहां एकत्रित लोगों ने यीशु को सूली पर चढ़ाने की मांग कर रहे हैं .   filatus ने भीड़ के सामने तब पानी में अपना हाथ धोए और कहा कि मैं इस धर्मी के लहू से निर्दोष तुम ही जानो .

तब सब लोगों ने कहा की इसका लहू हम पर और हमारे संतानों पर .

तब  filatus ने बररब्बा को छोड़ दिया और यीशु को सौंप दिया की उसे सूली पर चढ़ाया जाए .

यीशु मसीह को सौंप के बाद रोम के सिपाही उसे किले में से निकालकर पहाड़ी पर जो खोपड़ी हिलाती है ले जाने लगे . ले जाते समय प्रभु यीशु के कंधों पर एक भारी क्रॉस रख दिया . और उसे नगर से होते हुए कोड़े लगाते हुए रास्तों से पहाड़ी की ओर ले जाने लगे .

तब रास्ते में उन्होंने saimon नामक एक व्यक्ति को पकड़ा और उस पर प्रभु के क्रॉस को लाद दिया . प्रभु यीशु मसीह इतने लहूलुहान हो गए थे कि उनसे वह भारी-भरकम क्रॉस नहीं ले जाते बनता था .

तब सैनिकों  saimon कुरैशी को पकड़कर उसे क्रॉस को उठाकर ले जाने के लिए पकड़ा दिया .

रास्तों से ले जाते वक्त पास में प्रभु यीशु को इस अवस्था में देखकर बिलक बिलक असर उनकी आंखों से आंसू निकल रहे थे और भी जोर जोर से रोने लगे थे.

-तब प्रभु यीशु मसीह ने उनसे कहा की है यरूषण पुत्रियों मेरे लिए मत रो अपने पुत्रों के लिए रो .

जब वे खोपड़ी नामक पहाड़ी पर पहुंचे वहां सिपाहियों ने प्रभु यीशु मसीह के कपड़ों को निकालकर उसे क्रूस पर लिटा दिया और उसके हाथ और पांव को क्रूस पर ठोक दिया . और उसके क्रूस ऊपर यह लिखवा दिया यीशु यहूदियों का राजा है . और यही नहीं बल्कि उनके साथ में दो डाकुओं को भी एक एक तरफ उनके लटका दिया .

तब वहां पर जो सैनिक थे उन्होंने चिट्ठी डालकर प्रभु यीशु मसीह के कपड़े आपस में बांट लिए और वे प्रभु यीशु मसीह के अपमान करने लगे और मजाक उड़ाने लगे .

जब प्रभु यीशु मसीह को क्रूस पर चढ़ाया गया तब उस समय उसकी माता मरियम उसी पुरुष के पास में खड़े होकर के यह सब नजारा देख रही थी . और उसकी मां की चेली प्रभु यीशु मसीह को छोड़ कर के कहीं दूर भाग चुके थे .

जब प्रभु यीशु मसीह क्रूस पर लटके हुए थे तो उन्होंने क्रूस पर से यह कहा- की है पिता इन्हें क्षमा कर क्योंकि यह नहीं जानते यह क्या करते हैं .

यह प्रार्थना प्रभु यीशु मसीह ने उन लोगों के लिए की थी जिन्होंने उन्हें क्रूस पर चढ़ाया था . इसी प्रकार से प्रभु यीशु मसीह ने क्रूस पर से 7 बातें कहीं .

जब प्रभु यीशु मसीह क्रूस पर थे उनकी पीड़ा हमारी कल्पना से दूर थे क्योंकि उस समय क्रूस एक अपमानजनक सजा था क्योंकि दोस्तों वचन में इस प्रकार से लिखा गया है श्रापित है वह जो लकड़ी पर लटकाया जाता है .

प्रभु यीशु मसीह निर्दोष थे लेकिन उन्होंने हम सब का बाप अपने ऊपर ले लिया वह जो आपसे अध्यात्म था अनजान था लेकिन वह हम सभी लोगों के लिए पापी बन गया हम उसमें होकर परमेश्वर की भक्त बन जाए और पाप से छुड़ाकर धार्मिकता की दास बन जाए

Leave a Reply