You are currently viewing सफल Businessman Motivational Story In Hindi
Vimal Majubdar

सफल Businessman Motivational Story In Hindi

Vimal Majubdar का सक्सेस स्टोरी के बारे में आज के पोस्ट में जानकारी देने वाले है . विमल मजूबदार जी ने कैसे मात्र 37 रुपया से घर को छोड़कर के एक सफल बिजनेस मैन बना है , उनके साथ में कौन-कौन से परिस्थति से लड़ाई लड़ के एक सफल व्यक्ति बना है . इन सभी के बारे में आज जानकारी देने वाले है .  

Businessman Motivational Story In Hindi परिचय Vimal Majubdar की –

विमल मजूबदार एक गरीब परिवार से थे । पिता जी किसान थे और किसानी के साथ में आपने खुद का टेलरिंग का भी काम करते थे । टेलरिंग से होने वाले इनकम बहुत ही कम था कि परिवार का पालन पोषण नहीं कर पाते थे । घर में एक बहन ,दो भाई जिससे किसानी और टेलरिंग के पैसे से गुजर बसर करते थे ।

जब आप छोटे थे पिता जी के साथ खेतो में किसानी के काम भी करते थे साथ में पढ़ाई का भी करते थे । ऐसे करते करते माध्यमिक शिक्षा को पास कर लेते है ।

माध्यमिक शिक्षा के बाद परिवार कि आर्थिक स्थिति कमजोर थे , पिता जी पढ़ाना चाहते थे लेकिन आप आप परिवार के स्थिति के बारे में सोचकर के अपने दोस्त के पास कोलकत्ता में काम कि तलाश के लिए मात्रा जेब में 37 रुपया को पकड़ के कोलकाता पहुंचे ।

स्ट्रगल की शुरुआत –

Businessman Motivational Story In Hindi
Vimal Majubdar

कोलकत्ता में आकर के कुछ दिन तक काम कि तलाश में भटकते रहे और उसके बाद एक मिठाई के दुकान में काम करना शुरू काम करना शुरू कर दिए । मिठाई के दुकान में सोने में बहुत ही ज्यादा परेशानी होती थी । रात को मिठाई के दुकान में छत में चीनी के बारे को  बिछाकर  , इट को सिराने में लगा के चार से पांच दिन तक इस काम को करते और उसके बाद छोड़कर दूसरे मिठाई दुकान में काम किये । दो तीन मिठाई दुकान में काम करने के बाद सभी कामो में ऐसी काम करने के बाद  छोड़ दिए ।

मिठाई दुकान में काम करते करते वही के रहने वाले के साथ जान-पहचान अच्छी होने के दोस्ती हो जाती है और उसी के मदद से एक कपडा दुकान में 2 सालों तक काम किये । कपडा दुकान में मात्र उस समय 300 रुपए कि तनखाह मिलती थी जिसे आप घर भेजते थे ।

वेतन कम होने के कारण इस नौकरी को छोड़कर दवाई फैक्ट्री में सिक्युरिटी गार्ड कि नौकरी ज्वाइन करते है । सिक्युरिटी गार्ड कि जॉब को दो माह तक करने के बाद कुछ सिखने नहीं मिल रहा है करके इसे भी छोड़कर लेदर कंपनी में फिर से सिक्युरिटी गार्ड कि नौकरी करते है जहा 12 घंटा तक ड्यूटी शुरू कर दिए , आपके मन में ये ख्याल था कि जॉब के साथ में कुछ सिखने को भी मिले । यहां पर भी 2 -3 माह तक नौकरी उसके बाद इसे भी छोड़ देते है ।

ऐसे करते करते 5 से पांच कंपनी में 2 -3 माह जॉब करने के बाद जॉब छोड़ देते थे । इस बीच में काम करते करते आपके पिता जी का तबियत बहुत ही ज्यादा ख़राब होने के बाद कलकत्ता से फिर घर जाते है । घर में इतना पैसा नहीं थे कि किसी अच्छे से डॉक्टर के पास ले जाकर के पिता जी का इलाज करा पाए । और पिता जी के इलाज के लिए फिर से कलकत्ता आ गए ।

और फिर घर से कलकत्ता आ जाते है और कंपनी में काम करना शुरू कर दते है । लगातार 24 घंटे काम करने के बाद पिता जी के इलाज के लिए पैसे इकट्ठा करने लगते है । कुछ दिन काम करने के बाद घर जाते है तो इसी बीच में आपके पिता जी का स्वर्गवास हो जाता है । अब परिवार का सारे जिम्मेदारी आपके ऊपर आ गए थे ।


NAINITAL MOMOS से लाखो कमाने वाले Ranjit Singh Ki Struggle Story  

भारत में महिला समूह को आगे लाने वाली महिला की सक्सेस स्टोरी 


पिता जी गुजर जाने के कुछ समय बाद परिवार कि सारे जिम्मेदारी और पैसो कि आर्थिक तंगी को देखते हुए मुंबई के आदमी के साथ काम करने के लिए मुंबई चले जाते है और 4 से 5 महीने तक खाली पिली घूमते रहे । मुंबई में गांव के लोगो ने एक काम देते और पैसो कि तंगी के कारण उस काम को कुछ दिनों के लिए करते है । और पैसे इक्कट्ठे होने के बाद घर में अपने बहन कि शादी करते है ।

बहन के शादी के बाद फिर घर परिवार कि जिम्मेदारी को उठाने के लिए फिर कोलकत्ता में जोब करने लगते है उसे भी कुछ दिनों तक करने के बाद उसे छोड़कर के लेदर कंपनी में जॉब शुरू कर दिए ।

बिज़नेस की शुरुआत –

लेदर कंपनी में 13 सालो तक नौकरी किये । आप मन ही मन सोचा करते थे कि कोई ऐसा बिस्सनेस करे जिससे परिवार चल सके । इसके लिए आपने इस कंपनी में 5 साल बाद पार्ट टाइम में छुट्टी के दिन में लोगो के घरो में कपडे बेचने का काम भी शुरू किये लेकिन बहुत ज्यादा मेहनत और दिक्कत के बाद कपडे बेचने भी बंद कर दिए । अभी भी आप जॉब कर रह थे ।

इसके बाद लेदर कंपनी में काम करते थे वही से कपडे को अब छुट्टी के दिन में दुकानों में जाकर के बेचने शरू कर दिए लेकिन इसमें भी दुकानदार चोरी का मॉल करके नहीं खरीदते थे लेकिन बाद में खरीदना शुरू कर देते है ऐसे करते करते पार्ट टाइम में आपने खुद का बिज़नेस भी शुरू कर दी । लेदर कंपनी में काम करते , काम के बाद और छुट्टी के दिन में कपडे बेचने का काम भी करते थे ।

इसके कुछ महीनो बाद में लोगो के साथ व्यापार अच्छा होने के बाद में कंपनी के जॉब को छोड़कर के खुद का बिज़नेस शुरू कर दी । लेकिन अभी भी परेशानी काम नहीं थी आप पहले जिस कंपनी में काम करते थे वहां से परेशान करना शुरू कर दिया 2 सालो तक कस्टर्स, सप्लायर्स को सामान लेने से मना कर देते थे ।

और अनन्तः काफी समय बीतने के बाद में बिजनेस अच्छा चलने लगे और आज उनके पास में खुद की कम्पनी है जंहा वह कपडे ले लेदर की कम्पनी का कूद मालिक है । आज उनकी कम्पनी का टर्नओवर  करोड़ रुपया से है ।

दोस्तों जिंदगी में बदलाव हमेशा होता रहता है आज किसी और का सिक्का चल रहा है तो काल आप भी अपने मेहनत के बल में आप कल आपका राज होगा होगा और बदलाव प्रकृति का नियम है ।

दोस्तों ये छोटी सी Businessman Motivational Story In Hindi आपको अच्छी लगी हो तो इस Businessman Motivational Story In Hindi को अपने दोस्तों के पास में ज्यादा से ज्यादा मात्रा में शेयर जरूर कर दीजियेगा ।


छोटे से गांव से लाखो कमाने वाले Harsh Rajput Ki Success Story

IAS Officer Motivational Story In Hindi || IAS Motivational Story


 

Leave a Reply