You are currently viewing छत्तीसगढ़ के पुरस्कार के नाम | Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam
Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam

छत्तीसगढ़ के पुरस्कार के नाम | Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam

छत्तीसगढ़ शासन ने महापुरुषों स्वतंत्र सेनानियों व अन्य विभूतियों की स्मृति में 15 से अधिक पुरस्कार की स्थापना की है Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam की इन पुरस्कारों की स्थापना का उद्देश्य किसी व्यक्ति अथवा संस्था को उसकी लगन साधना एवं कर्मठता से हासिल उपलब्धि के लिए सम्मान करना है साथ ही उन महान व्यक्तियों के नाम से यह पुरस्कार बनाया गया है।

Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam का उन व्यक्तियों और महापुरुषों के व्यक्तित्व और उनके कार्यों से लोगों को परिचित कराना है। छत्तीसगढ़ इन पुरस्कारों को छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना की प्रथम वर्षगांठ पर 1 नवंबर को प्रदान किया गया। इनमें से ज्योतिबा फुले नारी शिक्षा पुरस्कार को छोड़कर राज्य शासन ने केस पुरस्कारों के लिए नामों की घोषणा कर दी है।

तो आइए जानते हैं छत्तीसगढ़ के महापुरुषों के नाम पर आधारित छत्तीसगढ़ के शासन के द्वारा जो पुरस्कार सम्मान घोषित किए गए हैं उनके बारे में –

छत्तीसगढ़ के प्रादेशिक सम्मान Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam

  1. शहीद वीर नारायण सिंह स्मृति पुरस्कार
  2. पंडित सुंदरलाल शर्मा पुरस्कार
  3. डॉ खूबचंद बघेल कृषक रत्न पुरस्कार –
  4. गुरु घासीदास सामाजिक चेतना तथा दलित उत्थान पुरस्कार
  5. पंडित रविशंकर शुक्ला पुरस्कार
  6. यति यतन लाल अहिंसा पुरस्कार
  7. राजा चक्रधर सिंह कला पुरस्कार
  8. मिनीमाता स्मृति उत्थान पुरस्कार
  9. गुंडाधुर स्मृति खेल पुरस्कार
  10. चंदूलाल चंद्राकर स्मृति पत्रकारिता फैलोशिप
  11. दाऊजी मंदराजी सम्मान
  12. ज्योतिबा फुले नारी शिक्षा पुरस्कार
  13. पंडित सुंदरलाल शर्मा साहित्यिक लेखन पुरस्कार
  14. गुरु घासीदास पुरस्कार
  15. स्वर्गीय डॉक्टर भंवर सिंह पोर्ते स्मृति चिकित्सा प्रोत्साहन योजना

5+छत्तीसगढ़ी कहानी | cg kahani |cg story

10+ छत्तीसगढ़ी कहानी | cg kahani | chhattisgarhi kahani


 

छत्तीसगढ़ के पुरुस्कार 

 

  1.  राजीव गाँधी पुरुस्कार
    श्रम उद्योग के क्षेत्र में 5 लाख रूपये के साथ प्रशस्ति पत्र
  2. राजीव गाँधी पर्यावरण पुरुस्कार
    पर्यावरण रक्षा के लिए 2 लाख रूपये के साथ प्रसस्ति पत्र
  3. हाजी हसन अली पुरुस्कार
    उर्दू सेवा के लिए दो लाख रूपये के साथ प्रशस्ति पत्र
  4. गुरु घासीदास पुरुस्कार
    दलित उत्थान के लिए 2 लाख रूपये के साथ में प्रशस्ति पत्र
  5. डॉ खूबचंद बघेल पुरुस्कार
    उन्नत कृषि उत्पादन के लिए ₹200000 के साथ प्रशस्ति पत्र
  6. ज्योतिबा फुले पुरस्कार
    समाज सेवा के लिए ₹200000 के साथ प्रशस्ति पत्र
  7. बिलासा बाई केवटिन पुरस्कार
    मस्तक से पालन के लिए ₹200000 के साथ प्रशस्ति पत्र

 


Top 5+समय की कीमत कहानी Samay Ka Sadupyog Kahani

150+ छत्तीसगढ़ी जनउला/पहेली || Chhattisgarhi Janaula


छत्तीसगढ़ राज्य के खेल सम्मान/पुरस्कार

क्र सम्मान/पुरस्कार प्रारंभ तिथि सम्मान /पुरस्कार
1 .

2 .

3 .

4 .

गुंडाधुर सम्मान

शहीद राजीव पांडे पुरस्कार

शहीद कौशल यादव

हनुमान सिंह सम्मान

1 नवंबर 2001

1 नवंबर 2001

1 नवंबर 2001

1 नवंबर 2001

₹2 लाख रूपये

₹2.50 लाख रूपये

₹1 लाख रूपये

₹2 लाख रूपये

 

छत्तीसगढ़ के प्रादेशिक सम्मान पूरी डिटेल में जानकारी

1 . शहीद वीर नारायण सिंह स्मृति पुरस्कार –
छत्तीसगढ़ के पुरस्कार के नाम से प्रदेश के महासमुंद जिले के पिथौरा ब्लाक के ग्राम सोनाखान के शहीद वीर नारायण सिंह को छत्तीसगढ़ प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी माना जाता है । छत्तीसगढ़ शासन के आदिम जाति कल्याण विभाग ने शहीद वीर नारायण सिंह की स्मृति में एक पुरस्कार की स्थापना की है जिसे शहीद वीर नारायण सिंह स्मृति पुरस्कार कहा जाता है। शहीद वीर नारायण सिंह के पुरस्कार के तहत छत्तीसगढ़ में आदिवासियों में सामाजिक चेतना जागृत करना तथा उसके उत्थान के चित्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों अथवा स्वैच्छिक संस्थाओं को ₹200000 नगद एवं प्रशस्ति पत्र दिया जाता है ।

वर्ष 2001 का पुरस्कार शैक्षिक संस्था आदिवासी शिक्षण संस्था पाड़ीमार को शहीद वीर नारायण सिंह स्मृति पुरस्कार प्रदान किया गया है।


10+ छत्तीसगढ़ी कहानी | cg kahani | chhattisgarhi kahani

1+ छत्तीसगढ़ी लोक कथा || chhattisgarhi lok katha 


2 . पंडित सुंदरलाल शर्मा पुरस्कार 
पंडित सुंदरलाल शर्मा छत्तीसगढ़ के गांधी कहे जाते थे । पंडित सुंदरलाल शर्मा का जन्म 21 दिसंबर 18 सो 81 को राजिम के ग्राम चम्सुर में हुआ था।उन्हें सामाजिक एवं साहित्यिक चेतना का प्रतीक माना जाता है। छत्तीसगढ़ शासन के शिक्षा विभाग ने सांस्कृतिक विभाग के समन्वय से साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट लेखन कार्य के लिए रचनाकारों को पंडित सुंदरलाल शर्मा पुरस्कार से सम्मानित करने के साथ ₹200000 नगद एवं प्रशस्ति पत्र किसी व्यक्ति अथवा संस्था को देने की घोषणा छत्तीसगढ़ सरकार ने की है। वर्ष 2001 का पुष्कर जाने माने साहित्यकार विनोद कुमार शुक्ल को पंडित सुंदरलाल शर्मा साहित्य पुरस्कार दिया गया है ।

 Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam
Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam

3 . डॉ खूबचंद बघेल कृषक रत्न पुरस्कार – 
छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के डॉ खूबचंद बघेल का जन्म 19 जुलाई उन्नीस सौ को ग्राम पथरी में हुआ था जो रायपुर के समीप है। उनकी स्मृति में छत्तीसगढ़ के कृषि विभाग ने प्रदेश में कृषि क्षेत्र में सर्वोच्च कार्य करने वाले किसान को नाटक खूबचंद बघेल कृष्ण कृष्णा पुरस्कार के साथ ₹200000 नगद एवं कृषक रत्न देने की घोषणा छत्तीसगढ़ सरकार ने की है ।
वर्ष 2001 का पुरस्कार श्रीकांत गोवर्धन को डॉ खूबचंद बघेल कृषि कर्मण पुरस्कार से सम्मानित किया गया है ।

4 . गुरु घासीदास सामाजिक चेतना तथा दलित उत्थान पुरस्कार – 
गुरु घासीदास जी गिरौदपुरी में जन्मे महान समाज सुधारक तथा सतनामी समाज के प्रमुख रहे हैं। गुरु घासीदास की स्मृति में Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam के आदिम जाति कल्याण विभाग ने गुरु घासीदास सामाजिक चेतना दलित उत्थान पुरस्कार देने की घोषणा की गई है। गुरु घासीदास सामाजिक चेतना दलित उत्थान पुरस्कार ₹200000 नगद प्रशस्ति पत्र के साथ दिया जाएगा। यह पुरस्कार छत्तीसगढ़ में सामाजिक चेतना जागृत करते हुए दलितों के उत्थान के ke क्षेत्र में उत्कृष्ट करण कार्य करने वाले व्यक्ति अथवा संस्था को गुरु घासीदास सामाजिक चेतना तथा दलित उत्थान पुरस्कार प्रदान किया जाता है।
वर्ष 2001 का पुरस्कार डॉ रतन लाल जांगड़े एवं राज महंत सोनकर को गुरु घासीदास सामाजिक चेतना तथा दलित उत्थान पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

5 . पंडित रविशंकर शुक्ला पुरस्कार – 
पंडित रविशंकर शुक्ला पुरस्कार पंडित रविशंकर शुक्ल की स्मृति में छत्तीसगढ़ में सांप्रदायिक सौहार्द्र एवं जाति सद्भावना के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए ₹200000 का पुरस्कार स्थापित किया गया है।
वर्ष 2001 का सबसे पहले पंडित रविशंकर शुक्ल पुरस्कार पूर्व सांसद केयर भूषण को दिया गया है।

6 . यति यतन लाल अहिंसा पुरस्कार – 
यदि यतन लाल का जन्म बीकानेर में हुआ था। पंडित रविशंकर शुक्ला के अनन्य सहयोगी थे। छत्तीसगढ़ शासन के सामान्य प्रशासन विभाग ने अहिंसा की भावना से उत्कृष्ट कार्य के लिए अति यतन लाल अहिंसा पुरस्कार के साथ ₹200000 का पुरस्कार स्थापित किया है ।
सन 2001 का पुरस्कार संयुक्त रूप से रमेश हरी प्रसाद जोशी को दिया गया।

7 . राजा चक्रधर सिंह कला पुरस्कार –
राजा चक्रधर अपने समय में कलर एवं कलाकारों को संरक्षण एवं उत्साहित करते थे । उन्हीं के प्रोत्साहन से छत्तीसगढ़ में कथक नृत्य का रायगढ़ घराना व्यक्तित्व और विख्यात हुआ छत्तीसगढ़ शासन के संस्कृति विभाग द्वारा राजा चक्रधर सिंह की स्मृति में संगीत एवं कला के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले कलाकार कला साधक को ₹200000 की सम्मान निधि इस सम्मान के तहत प्रदान की जाती है।
वर्ष 2001 का प्रथम चक्रधर सिंह कला पुरस्कार देश की प्रख्यात गायिका सुश्री किशोरी आमोनकर को प्रदान किया गया ।

8 . मिनीमाता स्मृति उत्थान पुरस्कार – 
मिनीमाता सतनामी समाज के गुरु अगम दास की पत्नी एवं छत्तीसगढ़ की प्रथम महिला सांसद गुरु माता मीनाक्षी देवी है जिन्हें लोग असमानता के विरुद्ध है संघर्ष से लोगों ने मीनाक्षी देवी को मिनीमाता नाम दिया। वह जीवन भर दलितों, शोषित व महिलाओं के कल्याण में लगे रही। इस कारण से छत्तीसगढ़ शासन के महिला एवं बाल विकास विभाग ने महिलाओं के उत्थान के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने वाली महिलाओं के लिए ₹200000 कामिनी माता स्मृति उत्थान पुरस्कार स्थापित किया है।
सन 2001 का सर्वप्रथम मिनीमाता स्मृति उत्थान पुरस्कार रायपुर नगर में विभूषित श्रीमती बिन्नी बाई को यह पुरस्कार प्रदान किया गया।


श्रमिक कार्ड ऑनलाइन रजिस्ट्रशन छत्तीसगढ़ || श्रमिक पंजीयन कार्ड CG || श्रमिक पंजीयन कार्ड डाउनलोड CG

कलचुरी कालीन छत्तीसगढ़ की सामाजिक एवं आर्थिक दशा का वर्णन || कलचुरी कालीन शासन व्यवस्था


9 . गुंडाधुर स्मृति खेल पुरस्कार –
गुंडाधुर का जन्म बस्तर के ग्राम नेता नार में हुआ। Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam में गुंडाधुर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व भूमपाल आंदोलन के नायक रहे हैं। गुंडाधुर की स्मृति में छत्तीसगढ़ शासन की खेल एवं युवक कल्याण विभाग ने खेलकूद के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों के लिए ₹200000 व छत्तीसगढ़ राज्य के खेल सम्मान प्रशस्ति पत्र पुरस्कार के रुप में देने की घोषणा की है।
छत्तीसगढ़ का वर्ष 2001 में प्रथम पुरस्कार दुर्ग के वॉलीबॉल खिलाड़ी आशीष अरोड़ा को गुंडाधुर स्मृति खेल पुरस्कार से नवाजा गया है।

10 . चंदूलाल चंद्राकर स्मृति पत्रकारिता फैलोशिप – 

Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam
Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam

दुर्ग जिले के निपानी ग्राम में जन्मे चंदूलाल चंद्राकार पत्रकार थे। उन्होंने अपनी कलम के माध्यम से छत्तीसगढ़ के अलग-अलग क्षेत्रों में निरंतर लोगों को जन जागरण किया। जिसके स्मृति में छत्तीसगढ़ शासन के जनसंपर्क विभाग ने उनकी स्मृति में प्रतिवर्ष एक पत्रकार को चंदूलाल चंद्राकर स्मृति पत्रकारिता फेलोशिप प्रदान करता है। यह फेलोशिप छत्तीसगढ़ से संबंधित किसी भी सार्वजनिक हित या general रुचि के विषय पर उत्कृष्ट लेखन के लिए ₹200000 सम्मान निधि के रूप में प्रदान किया जाता है।
छत्तीसगढ़ का सबसे पहले चंदूलाल चंद्राकर स्मृति पत्रकारिता खेलों से पुरस्कार समाचार पत्र हिंदू की ब्यूरो प्रमुख सुश्री आरती धर को यह पुरस्कार प्रदान किया गया है।

11 . दाऊजी मंदराजी सम्मान –
दाऊजी महाराज जी छत्तीसगढ़ के जाने-माने लोक कलाकार थे। दाऊजी मंदराजी की स्मृति में छत्तीसगढ़ सरकार के संस्कृति विभाग ने छत्तीसगढ़ में लोक कला के लिए यह पुरस्कार की स्थापना की है। यह पुरस्कार छत्तीसगढ़ में नाचा गम्मत को मंच पर स्थापित करने एवं इसके प्रदर्शन को एक व्यवस्थित कला के अनुशासन में डालने के लिए अदिति योगदान के लिए लोक कलाकार को ₹200000 के साथ दाऊ मंदराजी सम्मान प्रदान किया जाता है।
सन 2001 का प्रथम दाऊ मंदराजी सम्मान पुरस्कार प्रख्यात पंडवानी गायिका पदम श्री झाड़ू राम देवांगन को प्रदान किया गया था।

12 . ज्योतिबा फुले नारी शिक्षा पुरस्कार –
ज्योतिबा फुले महाराष्ट्र के पुणे में जन्मे जिन्होंने अपना सारा जीवन दलितों व गरीबों की सेवा में बिता दिया। उन्होंने महिला शिक्षा के लिए उल्लेखनीय व महत्वपूर्ण कार्य किए। छत्तीसगढ़ सरकार के शिक्षा विभाग द्वारा नारी शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों अथवा सामाजिक संस्थाओं को ज्योतिबा फुले स्मृति नारी शिक्षा पुरस्कार प्रदान किया जाता है इसके तहत ₹200000 एवं प्रशस्ति पत्र दिया जाता है।

13 . पंडित सुंदरलाल शर्मा साहित्यिक लेखन पुरस्कार – 
पंडित सुंदरलाल शर्मा साहित्य लेखन पुरस्कार छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा छत्तीसगढ़िया हिंदी के सर्वश्रेष्ठ साहित्य लेखन पर प्रति वर्ष ₹100000 का पुरस्कार प्रदान किया जाता है

14 . गुरु घासीदास पुरस्कार –
गुरु घासीदास पुरस्कार छत्तीसगढ़ में सामाजिक उद्धार नारी उद्धार में आदिवासियों तथा अनुसूचित जातियों के समग्र विकास में योगदान करने वाले विशिष्ट व्यक्ति या संगठन को प्रतिवर्ष ₹100000 का पुरस्कार दिया जाता है।

15 . स्वर्गीय डॉक्टर भंवर सिंह पोर्ते स्मृति चिकित्सा प्रोत्साहन योजना – 
इस Chhattisgarh Ke Puruskar Ke Nam को चिकित्सा शिक्षा प्राप्त करने वाले कमजोर वर्ग की बालिकाओं को प्रवणता के आधार पर छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है ।


छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना || CG Mukhyamantri Kanya Vivah Yojana

छत्तीसगढ़ नलकूप योजना || CG Nalkoop khanan Yojna|| किसान समृद्धि योजना छत्तीसगढ़ Online


 

Leave a Reply