छत्तीसगढ़ी वर्णमाला स्वर व्यंजन | Chhattisgarhi Bhasha Swar Yyanjan

किसी भी भाषा के स्वर एवं व्यंजन के ध्वनि सूचक चिन्ह वर्ण कहलाते हैं एवं भाषा सभी वर्णों के समूह को वर्णमाला {छत्तीसगढ़ी वर्णमाला स्वर व्यंजन} कहते हैं। अर्थात वर्णमाला में दो प्रकार के ध्वनि चिन्ह होते हैं –
1 . स्वर
2. व्यंजन
स्वर
अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ

व्यंजन छत्तीसगढ़ी में 30 व्यंजन प्रयुक्त होते हैं-
क ख ग घ
च छ ज झ
ट ठ ड ढ
त थ द ध न
प फ ब भ म
य र ल व
श ष
स ह
हीरालाल काव्योपाध्याय के अनुसार Chhattisgarhi Bhasha Swar Yyanjan
• हीरालाल काव्योपाध्याय के अनुसार देवनागरी के निम्न स्वर छत्तीसगढ़ी में प्रचलित है- अ , आ , इ , ई , उ , ऊ , ए , ऐ , ओ , औ
• हीरालाल काव्योपाध्याय द्वारा दिए गए छत्तीसगढ़ी वर्णमाला में निम्न व्यंजन शामिल किए गए हैं
क, ख , ग , घ , ड , च , छ , ज , झ , ञ , ट , ठ , ड , ण , (ड, ढ) , त , थ , ध, न , प , फ , ब , भ, म , य , र , ल , व , स ,ह

डॉक्टर नरेंद्र देव वर्मा के अनुसार Chhattisgarhi Bhasha Swar Yyanjan
• डॉक्टर नरेंद्र देव वर्मा के अनुसार छत्तीसगढ़ी में 8 स्वर है – अ , आ , इ , ई , उ , ऊ , ए , ओ
•डॉक्टर नरेंद्र देव वर्मा के अनुसार छत्तीसगढ़ी में दो संध्यक्षर है – ऐ , औ
• डॉक्टर नरेंद्र देव वर्मा के अनुसार छत्तीसगढ़ी में 29 व्यजन प्रयुक्त हुए हैं क , ख , ग , घ, ङ , च, छ , ज , ट , ठ, ड , ढ , त , थ , द , ध , न , प , फ , ब , भ, म , य , र, ल, व, स,ह
• डॉक्टर नरेंद्र देव वर्मा के अनुसार न्ह , म्ह , र् ह , ल्ह , ड़् ढ़् को भी जोड़ने से छत्तीसगढ़ी में व्यंजनों की संख्या 35 हो जाती है ।
• डॉ नरेंद्र देव वर्मा के अनुसार छत्तीसगढ़ी में सभी स्वरों के अनुनासिक रूप है मिलते हैं।

वर्णों के उच्चारण स्थान
मुगल के जिस भाग से जिस वर्ण का उच्चारण होता है उसे उस वर्ण का उच्चारण स्थान कहते हैं।
उच्चारण स्थान तालिका
1. अ, आ , क , ख , ग , घ , ङ , ह – कंठस्थ            विसर्ग कंठ व जीव का निचला भाग
2. इ , ई , च , छ् , ज् , झ् , य् –        तालव्य                          तालु और जीभ
3. ट् , ठ्, ड् , ढ् , र्                       मुधन्य                           मुर्धी और जीभ
4. त्, थ् , द् , ध् , न्, ल्, स्,              दंत्य                             दांत और जीभ
5. उ , ऊ , प्, फ् , ब् , भ्, म् –       ओष्ठय                               दोनों होंठ
6. ए , ऐ                                कंठ तालव्य                    कंठ तालु और जीभ
7. ओ औ                                कंठोष्य                         दांत, जीभ और होठ
8. व्                                      दंतोष्ठ्य                              दांत और होंठ

 हिंदी से छत्तीसगढ़ी में रूप परिवर्तन

• छत्तीसगढ़ी व्यंजन व्यवस्था में निम्नानुसार परिवर्तन दिखते हैं –
ङ              –                न्                        ( गङगा – गंगा )
ञ              –                न्                           ( पञ्च – पंच )
ण              –                 न                        ( चरण – चरन )
श              –                 स                        ( शीत – सीत )
ष              –               स या ख                 ( भाषा – भाखा , दोष – दोस)
क्ष              –              छ या ख                   ( क्षेप – छेप या खेप )
त्र              –             तर या त्तर                  ( चरित्र – चरित्तर )
श्र              –                 सर                       ( श्रवण – सरवन )

कभी कभी
• क – ख             कंधा         –          खांध
• क – ग              भक्त         –         भगत
• ज – द            कागज        –         कागद
• त – द              रास्ता         –         रसदा
• द – ध            दमादम       –         धमाधम
• द – ड                 दंड         –          डंड
• न – ल               नीम          –          लीम
• य का लोप –     असंख्य      –          कसंख
• य – ज               यस           –          जस
• ड़ – र             पड़ोसी      –            परोसी
• व्यजन का दुहराव – अकेला –         अकेल्ला
• श , ष – स                      शेष-            सेस
ज्ञ – ग्य                         ज्ञान –            ग्यान
ए – अई                      ऐसन –          अइसन
त्र – तर                      त्रिशूल –          तिरसुल


परिपक्वता का संबंध है || maturity is concerned

स्मार्टनेस किताबो से नहीं आती || Smartness Doesn’t Come Through Books


हिंदी शब्द एवं अनेक छत्तीसगढ़ी रूप

अमर            –          अम्मर
अध्यक्ष          –        अध्यक्क्ष
आचरण        –         आचरन
सीता            –           छीता
सिंचना          –        छिचना
वत्सर           –          बच्छर
स्वर्ग             –          सरग
स्टेशन          –         टेशन
स्थायी           –       इसथायी
स्कुल            –       इसकुल
स्वभाव          –       सुभाव
तालाब          –       तलाव
विदेशी         –       बिदेसी
विस्तार         –      बिस्तार
कचहरी        –      कछेरी
मंत्र              –        मंतर
प्राकृतिक      –   पराकिरतिक
प्रतिक्रिया      –   परतिकिरिया
प्रत्युत्तर        –     परतीउत्तर
प्रतिपूर्ति       –     परतीपुरती
धर्म             –            धरम
मर्म             –            मरम
ध्यान           –        धियान
बादल          –       बादर
दिवाली        –     देवारी
माघव          –       माधो
भैरव           –        भैरों
उपद्रव        –    उपदरो
कद्र           –        कदर
जुडा          –        जुरा
पीड़ा         –       पीरा
तैसे           –        तैसन
होशियार    –      हुसियार
ब्राम्हण       –      बाम्हन
छेरी          –      छेरिया
गाय          –       गैया
बाघ         –        बघवा
रुमाल      –       उरमाल
रत्न          –        रतन
ज्वर         –        जर
ताम्र          –       ताम
शासन       –      सासन
प्रशासन     –     परसासन
देशी          –       देसी
दैनंदिनी     –    दयनंदिनी

chhattisgarhi vyakaran varnamala || छत्तीसगढ़ी वर्णमाला स्वर व्यंजन || Chhattisgarhi Bhasha Swar Yyanjan


Chhattisgarhi Rajbhsha Aayog Kya Hai || छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग

Fruit Names In Chhattisgarhi || छत्तीसगढ़ी भाषा में फलो के नाम

Chhattisgarhi Me Pakshiyo Ke Naam |पक्षियों के नाम-छत्तीसगढ़ी शब्दावली

पशुओं के नाम छत्तीसगढ़ी भाषा में || Pashuo Ke Nam Chhattisgarhi Bhasha Me

Vegetable Names In Chhattisgarhi || छत्तीसगढ़ी में सब्जियों के नाम

Chhattisgarhi Me Sharir Ke Angon Ke Naam|छत्तीसगढ़ी अंगों के नाम

Chhattisgarhi Rishte Naate Ke Naam Hindi/ENGLISH

 


 

Leave a Reply