You are currently viewing 1 Garib Bramhan Ki Kahani || गरीब ब्राह्मण की कहानी
Garib Bramhan Ki Kahani

1 Garib Bramhan Ki Kahani || गरीब ब्राह्मण की कहानी

एक गांव में एक गरीब ब्राम्हण परिवार रहता था । वह अपनी घर में एक बेटी , एक बेटा और पत्नी के साथ में एक छोटे से झोपडी में रहता था । वह बहुत ही आलसी किस्म के व्यक्ति था । वह अपने पूर्वजो को अपने गरीबी के लिए दोषी ठहराता था । 

गरीब ब्राह्मण की कहानी ।। Ek Garib Bramhan Ki Kahani

वह राज एक साफ सुथरा थैला को लेकर के आसपास के गांव में जाता था और वह प्रतिदिन की तरह ही लोगो के घरो से चावल लेकर के आ जाता था । 
एक दिन तेज अंधी आई और उसकी छोटी सी कच्ची मकान की बनी चोपड़ी टूट गई । और वह यह देखकर के रोया और रोते हुए भगवान से कहता है –
हे ! भगवान तुम मेरे साथ बेरहम क्यों करते हो । लेकिन वह कुछ समय बाद उसने सोचा की क्यों मै अपने पूर्वजो और भगवान को दोष क्यों दोष दे रहा हु ?
मैंने सारे दोष किये है ?
क्योंकि मैंने भीख मांगने के आलावा कुछ नहीं किया . कुछ काम कर लेता तो यह दिन नहीं देखना पड़ता .


मदद की कहानी | दूसरों की मदद करने पर कहानी

Naitik Shiksha Par Chhoti Kahaani || acche kahani


फिर उसने अपने परिवार के मदद से अपने घर का मरम्त करना शुरू किया ।
घर में नेव की खुदाई के दौरान उन्हें एक घर के अंदर एक गहनों से भरा एक पेटी मिला भूमिगत रखा गया था ।

इस गहने से भरे डिब्बे को देखकर के वह गरीब ब्राम्हण बहुत खुश हो जाता है ।

 Garib Bramhan Ki Kahani
Garib Bramhan Ki Kahani

उस घर में गहनों की पेटी उनके पूर्वजो ने रही थी . यह जानकारी उस गरीब ब्राम्हण को नहीं पता था ।

गरीब ब्राम्हण बहुत आलसी था इसलिए उनके पूर्वजो ने इस गहने के बारे में नहीं कहा था । 

उनके पिता ने सोचा था की जब भी उनका बेटा महसूस करेगा और खुद काम शुरू करेगा तो उसे यह सोने से भरा डिब्बा आसानी के साथ में मिल जायेगा . 

उसके बाद में उस डिब्बे से सोने से कुछ कीमती सोने को बेचकर के अपने परिवार के लिए एक बढ़िया सा मकान बनाया . 

उसने अपने पूर्वजो और भगवान को धन्यवाद कहकर के अपने परिवार को चलाने के लिए एक व्यवसाय शुरू किया । 

मैंने जो कहा था इसके लिए मै भगवान और अपने पूर्वजो से माफ़ी मांगता हु कहा । 

कुछ दिन के बाद में वह कभी भी भीख मांगने के लिए नहीं और अपने परिवार के साथ में सुख शांति के साथ में रहने लगा । 

मोरल ऑफ़ द स्टोरी – अपने काम के लिए कभी भी किसी दुसरो को दोष नहीं देना चाहिए . अपना काम को लगातार करे निश्चित रूप से एक न एक दिन सफल होने . और कोई भी काम करने से पहले सकारात्म सोच जरूर रखे . 


9+सफल बनाने Motivational Story For Students In Hindi

RJ Kartik Story In Hindi जो आपकी जिंदगी बदलदेगी 

Self Motivate – How to Stay Motivated All Time


 

Leave a Reply