You are currently viewing नींद न आए तो क्या करें? | neend na aane ka karan
neend na aane ka karan

नींद न आए तो क्या करें? | neend na aane ka karan

नींद ना आने के क्या कारण हो सकते हैं (neend na aane ka karan) , कुछ लोग हैं जो अच्छे से सोते हैं पर वह नहीं जानते कि वह अच्छे से सोते हैं कुछ लोग अच्छे से नहीं सो पाते. क्योंकि उनका शरीर शायद कुछ देर ही आराम चाहता है पर वह सोचते हैं शरीर और ज्यादा आराम चाहता है.

खुद ही परेशान हो जाते हैं मैं से कई लोगों से मिला हूं जो बिल्कुल ठीक है लेकिन उन्हें लगता है कि वह पर्याप्त नहीं सो रहे क्योंकि डॉक्टर के कहे अनुसार वह 8 घंटे नहीं सो रहे हैं 4 घंटे सो रहे हैं और सेहत में थे तो ठीक है ।

Neend Na Aane Ka Karan

अगर आप सेहत माने नींद की कमी महसूस नहीं करते और दिन में तीन-चार घंटे ही सोते हैं तो यह बिल्कुल ठीक है. ऐसी स्थिति में होना अच्छा है . और कुछ लोग अपनी मानसिक स्थिति की वजह से नहीं सो पाते .

कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपनी कोशिकाओं या अपने वंश की वजह से बनी स्थिति के कारण नहीं सो पाते अगर आप ऐसे हैं सिर्फ तभी उसे ठीक करना मुश्किल है , ठीक है .

आप अपने वंश की वजह से उस स्थिति में नहीं है तो आपके शरीर की कोशिकाएं ही किसी न किसी कारण से आपको सोने नहीं देते और ऐसा होने के स्व भी आप सो नहीं पा रहे तो मुझे लगता है आपको हमारा गार्डन डिपार्टमेंट ज्वाइन  यानि की आपको किसी भी गार्डन या फिर किसी किसान के खेत में जाकर के भरी धुप में में मेहनत करनी चाहिए।

फिर आपको नींद आ जाएगी . अगर वह काम नहीं करता तो आसान तरीका है कि आप 0 मेडिटेशन में दीक्षित हो जाए अभी से ऐसा होना चाहिए ज्यादातर लोगों के लिए शाम को भी ऐसा कर देती है ।  अगर शाम को भी आपके लिए कामना करें और अगर आप 0 ध्यान में दीक्षित हो जाएं तो आप देखेंगे कि उससे नींद की समस्या ठीक हो जाएगी कोई समस्या है तो आप तो बिल्कुल ठीक हूं और खुश नजर आ रही है

Neend Na Aane Ka Karan के उपाय 

neend na aane ka karan
neend na aane ka karan

बिना नींद के खुश है तो यह बहुत अच्छा है हां क्योंकि नींद मृत्यु है आय दिन लोग मरते हैं , 8 घंटे या 4 घंटे आप क्या चुनेंगे क्यों ज्यादा मेरे हर दिन कम किन्तु अच्छी है। जब से सेहत की समस्याएं हो रही हूं आप परेशान हो तब अगर काम करते समय आप की स्थिति ऐसी हो जैसे आपकी मशीन में चिकनाई की कमी है.

नींद सिस्टम के लिए लुब्रिकेशन का काम करते हैं जरूरत से कम नींद से आपके अंदर हर चीज में टकराव पैदा हो जाता है तो अगर ऐसी टकराव की स्थिति पैदा हो रही है , कुछ चीजें की जा सकती हैं एक चीज से मंदिर में जाकर के  उसमें रोज 15:20 मिनट बताइए आप देखेंगे कि आपका शरीर ठंडा हो जाएगा इसमें भरपूर चिकनाई आ जाएगी और शरीर और मन का अपने अंदर टकराव पैदा करने का स्वभाव चला जाएगा .

जब वह चला जाता है तो आप कितना सोते हैं यह कोई मुद्दा नहीं रह जाता बिल्कुल नहीं हर इंसान को एक बराबर नींद लेना जरूरी नहीं है यह बहुत ही गलत विचार है

अलग-अलग लोगों को अलग-अलग स्तर की नींद की जरूरत होती है . योग का एक पहलू या एक उद्देश्य यह है कि नींद को कम कैसे किया जाए. क्योंकि सोते समय अब जीवन नहीं जी पाते हैं .

लोग कहते हैं हम नींद का आनंद लेते हैं कोई भी नींद का आनंद नहीं ले सकता आनंद लेते हैं जो आपको नींद से मिलता है आनंद लेने का कोई तरीका नहीं है  क्योंकि नींद में आप और दुनिया दोनों का अस्तित्व मिट जाता है . अगर  वाकई सो रहे हैं तो तो सुबह सुबह 5:30 बजे आप सोने का बहाना करते हैं।  उसमें खुशी हो सकती है उसमें सुख हो सकता है मैं समझता हूं जब घंटी बज रही हो जब आप सोने का बहाना करते हैं मैं इनकार नहीं कर सकता ।

मगर जवाब वाकई सो रहे हो तब आपको पता नहीं होता कि वह क्या है आप वहां मौजूद ही नहीं होते तो आप नींद का आनंद नहीं ले सकते . नींद के नतीजे का हम आनंद लेते हैं इनसे हमें जो मिलता है आराम के रूप में तनाव मुक्ति के रूप में तुम के सुधार के रूप में हम उस का आनंद लेते हैं तो अगर आप में यह सुधार बहुत अच्छे से हो रहा है।

जितनी नींद (neend na aane ka karan) की आपको जरूरत है उस में भारी कमी आ जाए यह पहलू है कुछ दिन पहले कोई मुझसे पायनियल ग्लैंड के बारे में पूछ रहा था अगर पायनियल का रिसाव बढ़ जाए

पर भारत में से अमृत जीवन या अमृत कहा जाता है . अगर अमृत बहने लगे तो एक चीज यह होगी कि नींद कम हो जाएगी क्योंकि नींद नित्य है अगर किसी दिन रिसाव बहुत ज्यादा हो तो आप बिल्कुल नहीं सो पाएंगे किन्तु जिसकी वजह से आप सो रहे हैं या

नहीं सो रहे या पर्याप्त नहीं सो रहे हैं अगर यह मुद्दा है तो सुबह देखिए कि कैसा महसूस हो रहा है अगर अच्छा महसूस हो रहा है और आप पूरे दिन सक्रिय हैं तो नींद के बारे में भूल जाइए अगर आप बिना नींद के बिल्कुल अच्छे से रह सकते हैं तो परेशानी क्या है ।

ऐसा फिलहाल नहीं होगा लेकिन अगर ऐसा होता है तो परेशानी क्या है मैं पूछ रहा हूं जवाब जीवन को संभालना नहीं जानते सिर्फ तभी आप दिन में 12 घंटे सोना चाहते हैं अगर आप बिना किसी कारण के ज्यादा सोना चाहते हैं तो एक तरह से यह आत्महत्या जरूरत है और अब सोते हैं तो यह ठीक है शरीर आराम चाहता है तो या तो गार्डन डिपार्टमेंट चुनरिया इनमें से एक चीज से आपको समाधान मिल जाएगा ।


घबराहट दूर करने का मंत्र

घरेलू हिंसा अधिनियम

17 Best चेतना की अवस्थाएं पर लेख लिखिए | Maps Of Consciousness

|| #neendnaaanekakaran || #raatkoneendnaaanekekaran || #raatkoneendnaaanekakaran || #neendnahiaanekekaran || #neendnahiaanekakaran || neend na aane ka karan

Leave a Reply