You are currently viewing स्मार्टनेस किताबो से नहीं आती || Smartness Doesn’t Come Through Books
Smartness Doesn't Come Through Books

स्मार्टनेस किताबो से नहीं आती || Smartness Doesn’t Come Through Books

जिंदगी में यदि आप सफल होआ चाहते है तो आप बुक्स को पढ़कर के आप सफल नहीं हो सकते है . हो सकता है आप जिंदगी के किसी बड़े pad में जाकर के आसीन हो सकते है लेकिन जो स्मार्टनेस है वे पढ़ाकू विमान , पढ़ाकू बच्चे इंटेलिजेंस बच्चे में बहुत hi कम आता यही बाते आज की इस पोस्ट में हम आपको समझने वाले है । 

की गोलमेन के नियम के अनुसार स्मार्टनेस किताबो से नहीं आती Smartness Doesn’t Come Through Books ये बाते आज की पोस्ट में विभिन्न सरे उदाहरण से करने वाले है ।

Smartness Doesn’t Come Through Books bt intelligence Man

मान लीजिये की कोई ऐसा व्यक्ति है जो इंजिनियर है । 1990 के दशक के समय ये शब्द बहुत ही ताकतवर थे लेकिन आज के समय में नहीं है . उस ज़माने में इंजिनियर को बहुत ही ज्यादा तवज्जो दिया जाता था . यदि यु कहा जाये की विवाह के बाजार में हमेशा नंबर एक स्थान में होता था । डाक्टरों का स्थान नंबर 2 में आता था लेकिन आज ऐसा बिलकुल भी नहीं होता है .

 to एक इनजियर है जिसका क्लास में इसका IQ लेवल सबसे ज्यादा था , क्लास का टोपर था , होम वर्क भी रोज करता । कहने का मतलब एकदम भोलाभाला , सीधा साधा बच्चा , किसी से बुरा भला न बोलने वाला । जब 12 वी में आया तो पुरे राज्य में टॉप किया . और मम्मी का दुलारा है और मम्मी को बिना पूछे कुछ भी नहीं करता है । जैसा मम्मी कहे वैसा ही करता है ।

फिर उसके बाद में B.TECH किया उसमे TOP किया फिर बच्चे ने MBA का exam दिया और CAT में टॉप किया और कैम्पस प्लेसमैंट में interview के बाद में किसी शानदार कंपनी में सलेक्शन हो गया . और उसे एंट्री लेवल में उसे 50 लाख का सालाना सैलरी मिला हुआ है । 


What Is Emotional Intelligence || भावनात्मक बुद्धिमत्ता क्या है

What is maturity in Hindi || क्या है परिपक्वता के लक्षण


 

जब लगाने के बाद पहली मीटिंग में गया । सब बात कर रहे है ये बच्चा शर्मा रहा था , ठीक से बात नहीं कर रहा था , गलती से पडोसी वाले सीट में एक लड़की आकर के बैठ गई . ये लड़का अपना सीट को उधर करने लगा . 

है राम मम्मी से पूछना पढ़ेगा की बात करना है या नहीं करना है ।
लड़का बहुत अच्छा है , IQ level भी बहुत अच्छा है लेकिन इस मामले में भोंदू क़िस्म का है लड़का । 

लड़की में पूछा क्या नाम है आपका ?
लड़का ने सोचा – अच्छा लाइन अभी से अच्छा अभी से 

और उसने कहा – SORRY I AM NOT INTRESTED

लड़की कहा नाम ही तो पूछा है , कलीग हो भाई नाम ही तो पूछा है । नॉट INTRESTED क्या होता है ? कंहा से आ जाते है पता नहीं उसके । 

इसको लग रहा बताओ यार सबके सामने ऐसे ही बोल दिया ।

भई नाम पूछे लड़की का इसका और क्या मतलब हो सकता है । वो जिस इलाके से है आया है वंहा एक ही मतलब माना जाता है इस चीज का नाम पूछ रही ये औपचारिकता है यदि नाम नहीं पूछ पा रही है तो क्या करे बेचारी ।

इस प्रकार से लड़का भोंदू है । किसी से बात नहीं कर पाता है , मंच में जा नहीं पाता है , जंहा चार लोग खड़े है वंहा से भाग लेता है , पार्टी-वार्टी  तो जाता नहीं है किसी भी हालत में ।

Smartness Doesn’t Come Through Books evrag student 

 Smartness Doesn't Come Through Books
Smartness Doesn’t Come Through Books

और इसी के क्लास में एक छठा हुआ बच्चा था । जो एग्जाम से 2 दिन पहले किताब का मुँह देखता था । मुँह दिखाई किताब से करता था और 2 दिन में पढाई कर के नंबर ठीक ठाक ले आता था । उसने कभी टॉप नहीं किया , उसे कभी TOP करने का कभी अरमान नहीं रहा , उसे इस बात का दुःख भी नहीं है की उसने कभी टॉप भी नहीं किया । वह इस बात से खुश है वह इक साल ठीक से जिया न की अपना साल ख़राब किया टॉप करने के चक्कर में । स्मार्ट है , कोई शादी बिहा में जाकर के खुद डांस करता है और खाना खा कर के आ जाता है । मस्त मौला आदमी है .

और इसी कंपनी में इसने भी Interview दिया और इसका सलेक्शन हो गया लेकिन छोटे पद में हो गया ।

गोलू लड़का सलेक्शन हुआ 50 लाख के पैकेज में और इसका हुआ 5 लाख के सालाना पैकेज में ।

इस लड़के का काम छोटा मोटा है । सबका हाल पूछना , file लेन ले जाने काम उस तरह का काम है इसका ।

इस बात की पर्याप्त सम्भावना है की 3 साल के बाद ये दूसरा व्यक्ति , पहले व्यक्ति से आगे जायेगा . वो निकलेगा इसलिए नहीं की उसका IQ ज्यादा है इसलिए की EI ज्यादा है ।

और वो जैसे जैसे आगे बढ़ेगा इस IQ वाले 50 लाख के पैकेज लेने वाले क तनाव हो जायेगा की क्यों मै आगे नहीं बाद पा रहा हु . ये ख़राब बच्चा था क्लास में , झूठ भी बोलता था ये तो । इसको नौकरी मिल कैसे गई और ये आगे बढ़ता जा रहा है और मै सतयुग का बच्चा हु आगे नहीं बढ़ पढ़ा हु ।


Self Motivate – How to Stay Motivated All Time

कैसे बना एक एवरेज स्टूटेंड UPSC टॉपर ? || IAS ki motivational story in hindi


अब इसको तनाव हो रहा है । अब इसके पास तनाव का समाधान एक ही है इसने सीधे गूगल में गया , AMAZON  में गया बुक ढूंढ ली How To Be Smart .

सबसे गोलू व्यक्ति या प्राणी वह है जो HOW TO SMART के लिए किताब पढ़ते है । और इसने how to smart की किताब खरीद ली amazon से इस पूरी किताब को पढ़ा और उसका नोट्स बना लिए । और पढ़कर के ये समझ गया की smart कैसे बनते है ।

और इसको पूरा पता है की स्मार्ट कैसे बनाते है तो इसने किताब पढ़ने के बाद रिवाइज करने के बाद ये दूसरे दिन ये गया ऑफिस में और दूसरे दिन क्या स्मार्ट हो जायेगा ।

ठीक इसी तरह से Cognitive learning से कभी भी स्मार्टनेस नहीं आती है , इमोशनल नहीं आती है । Cognitive learning  से मैक्स आ जायेगा , साइंस आ जायेगा , इतिहास आ जायेगा , भूगोल आ जायेगा , एथिक्स आ जायेगा , नोट्स आ जायेंगे , आंसर्स आ जायेगे . यदि आप सोच रहे है की ज्ञान जीवन में उतर जायेगा कॉग्रेटिव लर्निंग से नहीं आएगा . उसके लिए चाहिए इमोटिव एंड सोसियल लर्निंग ।

गोलमैन का सिद्धांत है और ये कैसे होता है बार बार , सैकड़ो बार अभ्यास करने से और इतना अभ्यास करना की न्यूरॉन्स के पाथ जैसे बन जाना . जैसे किसी पार्टी को देखकर के डर लग जाता है तो तो इतना अभ्यास से उस पार्टी की और आकर्षण जाना . और ये तब होगा जब सैकड़ो बार उस चुनौतियों को झेलकर के वो काम करेंगे जो काम करने में रुकावट है . इसलिए गोलमैन ने कहा की इमोशनल इंटेलिजेंस सीखना असंभव नहीं है लेकिन इसको सीखना गणित सिखने जैसा नहीं है . इसको सिखने के लिए उतनी ही मेहनत करनी पड़ेगी जितना सद्गुणी बनने के लिए करने पढ़ते है सुक्रात की तरह । 

उतनी मेहनत करेंगे तब वह smartness आती है जिसको हमलोग इमोशनल इंटेलिजेंस कहते है ।

Leave a Reply