What is maturity in Hindi || क्या है परिपक्वता के लक्षण

परिपक्वता जिंदगी में आते आते ही जिंदगी में आती है । जिंदगी में कभी भी एक साथ या यु कहे की एक उम्र के बाद में दिखाई देने लगते है । यदि मान लिया की जब व्यक्ति चाहे वह पुरुष हो या चाहे वह महिला हो जब वह युवा अवस्था में होती है तो उसमे परिपक्वता बहुत ही कम होता है और यह एक सामान्य बात है . 

आज की पोस्ट में हम आपको What is Maturity In Hindi { परिपक्वता क्या है } , What is Maturity in life , What is Maturity of mind ,  Maturity examples परिपक्वता के लक्षण , अपरिपक्वता क्या है , अपरिपक्वता के सभी लक्षणों को ,  Maturity किससे कारण से आता है , किस उम्र में ज्यादा परिपक्वता होती है इन सभी के परे में डिटेल ले साथ में जानकारी देने वाले है ।

अपरिपक्वता के पहले के लक्षण  

अपरिपक्वता {What is Maturity in Hindi }के लक्षण को समझने से पहले इसके बेसिक को समझना जरुरी है । अपरिपक्वता की उम्र 30 से 35 से कम के उम्र के बीच में आता है । जंहा नींद न आना , रात में करवटे बदलना , दोस्तों से झगड़ा जर्ना , प्रेमिका को मानना , यदि कोई गली गलौच करे तो जल्दी उतावला हो जाना अग्रेसिव हो जाना , जल्दी गुस्सा हो जाना , अपने आप में कण्ट्रोल न हो पाना , कंही जाना है तो जल्दी से तैयार हो जाना है , पार्टी में बहुत जल्दी पहुंच जाना । ये सभी छोटे मोठे लक्षण अपरिपक्वता के दिखाई देने लगते है ।

इन सभी लक्षणों के आलावा बहुत सारे लक्षण भी भी है अपरिपक्वता के । इस उम्र में मन सुनामी की तरह चलता है और धीरे धीरे वह स्थिर हो जाता है । किसी ने भड़काया आप पीछे पीछे दौड़ रहे उसे मारने के लिए । 

सामान्य भाषा में अरिपक्वता को अग्रेसिव होना या जल्दी से उतावला होना अपरिपक्वता की निशानी कहा जा सकता है । उदहारण से समझिये – यदि को लड़की लड़का को कहे की मुझे रात में समोसा खाना है तो प्रेमिका को समोसा के नाम से रात के चार बजे तक उसके लिए समोसा लाके दे सकता है ।  

परिपक्वता के लक्षण – 

परिपक्वता के लक्षण {What is Maturity in Hindi }को बिलकुल ही अपरिपक्वता जस्ट उल्टा है । इसमें किसी से 35 साल के 20 साल बाद दिखाई देता है थोड़ा उम्र में कम ज्यादा हो सकता है । किसी को इससे पहले आ सकती है किसी को इस उम्र के बाद में । इस उम्र में व्यक्ति किसी भी काम को करने के लिए अपने मन के हिसाब से करेगा , यदि किसी ने झगड़ा किया तो चुप चाप सुन लेगा , करेगा तो अपने मन के हिसाब से । किसी नायिका ने किसी नायक से कहेगा की मुझे रात में यदि कहे की मुझे समोसा खाना है तो नायक कहेगा तेरा दिमाग ख़राब हो गया है पागल औरत । 

जब इमोशन मरणासन्न में हो जाते है कोई फर्क नहीं पड़ता है । जैसे समुद्र में जैसे लहर आई और पता भी नहीं चलता है । यही है परिपक्वता । 


🔥कैसे बना एक एवरेज स्टूटेंड UPSC टॉपर ? || IAS ki motivational story in hindi🔥

🔥IAS Officer Motivational Story In Hindi || IAS Motivational Story🔥


उदहारण से समझिये – किसी ने भड़काया तो भड़केगा अपने मन से , करेगा अपने मन से , अपने इमोशन्स को पूरा कंट्रोल करना ही कहलाता है परिपक्वता । 

ये लक्षण युवाओ में , बच्चो में बहुत ही कम है । परिपक्वता के दृस्टि से युवा या बच्चे उतने परिपक्व नहीं है , Maturity नहीं है । 

परिपक्वता किसके कारण से होता है ? 

What is maturity in Hindi
What is maturity in Hindi

परिपक्वता और अपरिपक्वता का सारा खेल हमारे शरीर में पाए जाने वाले हार्मोन्स के कारण होता है । अभी युवा अवस्था में जो हार्मोस ज्यादा बाह रहे है वो आपको बहुत बैलेंस होने का मौका देते नहीं है । इस उम्र में किसी भी बात को , उतावलेपन को रोक पाना बहुत ही ज्यादा मुश्किल होता है । धीरे धीरे वो सभी हार्मोन्स कम हो जायेंगे । जो हार्मोस बैलेंस पैदा करेंगे वे बढ़ जायेंगे । एक समय के बाद में चाह के भी गुस्सा नहीं कर पाएंगे . 

उम्र बदलने से हार्मोन्स का बदलना और हार्मोस के बदलने से अपने बिहेवियर { व्यव्हार } का बदलना स्वाभाविक है । इसलिए आपके परिवार वाले कभी ये सलाह नहीं देते है की विद्रोह करो अपनी उम्र में वे भी कर रहे थे । अब उनकी चिंताए दूसरी है । 

उम्मीद करते है की आप हमारे What is Maturity in Hindi { परिपक्वता के लक्षण } को अच्छी समझगये होंगे । यदि आपको हमारा यह content अच्छा लगा तो आप इसे अपने Dosto के पास में share जरूर कर दीजियेगा ।


🔥❣🧡What Is Emotional Intelligence || भावनात्मक बुद्धिमत्ता क्या है🔥

🔥Self Motivate – How to Stay Motivated All Time🔥


 

Leave a Reply