Why do so many startups fail | इतने सारे स्टार्टअप असफल क्यों होते हैं?

Rate this post

हेलो दोस्तों स्वागत है आप सभी का हमारे इस ब्लॉग पोस्ट में यदि आप स्टार्टअप्स खोलना चाहते है या फिर खोलने की भविष्य में अपने दोस्तों के साथ में प्रोग्राम बना रहे है तो आप किस प्रकार से स्टार्टअप खोल सकते है यह सभी को पता होता है लेकिन उनको इस स्टार्टअप क्यों असफल हो जाते है उन्हें बारे में उन्हें नहीं पता होता है , वे इस बात से डरे होते है की कंही हम Startups कर रहे है तो वह बंद न हो जाए ।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इसी विषय में जानकारी देने वाले है की कैसे आप एक Why Do So Many Startups Fail? || इतने सारे स्टार्टअप असफल क्यों होते हैं? तो इनके करने को जानकर के सफल उद्यमी बन सकते है ।Startups fail क्यों हो जाते है इसके बारे में मैंने कई घंटो तक के रिसर्च किया है और मेरे कई ऐसे दोस्त है जिन्होंने Startups शुरू किया है वे आज भी छोटे लेवल में गांव में अपना काम कर रहे है । इन सभी लोगो से राय ली है और उसके बाद ही मई इस पोस्ट को लिख रहा हु ।

इस पोस्ट को पढ़ने के बाद में आप को किसी अन्य पोस्ट को पढ़ने की जरुरत ही नहीं इतना मैंने गहन रूचि के साथ में आपके लिए सरल किया हुआ है तो चलिए बिना किसी देरी के इस पोस्ट में आगे बढ़ते है :-

Why do so many startups fail? Some common reasons

स्टार्टअप के विफल होने के कई कारण हो सकते हैं। कुछ सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  • Lack of a viable market: यदि आप ऐसे प्रोडक्ट का चुनाव कर रहा है या फिर ऐसे प्रोडक्ट को बना रहे है जिसका मार्किट में कोई पूछने वाला नहीं है या कोई उनका खरीददार नहीं है या उनका चलना बहुत ही कम होता है तो इसके कारण भी स्ट्रटअप फ़ैल हो जाता है । तो इस बात को विशेष ध्यान रखे और प्रोडक्ट चलने वाले बनाये ।
  • Lack of capital:किसी भी व्यवसाय का मुख्य आधार होता है उसके पैसा । आपके पास में कितना पैसा है यह डिसाइड करता है की आप मार्केट में कितने समय तक के उधारी दे सकते है । यानि मार्किट करने के ले सबसे पहले पैसे की आवश्य्कता होती है तब जाकर के आप बिजनेस स्टार्ट कर पाते है यदि आपके पास में मार्किट है लेकिन पैसा नहीं है तो आपका Why Do So Many Startups Fail हो सकता है । तो इस बात को भी वेसेश ध्यान दे ।
  • Competition: जैसे की आप सभी लोगो को पता है की मार्किट में किसी भी कम्पनी के प्रोडक्ट हो उसमे कॉम्पिटिशन बहुत ही ज्यादा होता है । कई बार ऐसा होता है आप कम्पिटिओं में उतर जाते है मार्किट के दिशा को सही मोड़ नहीं दे पाते है ता आप Why Do Startups Fail? होने चांस और ज्यादा बाद जाते है इसलिए मार्किट में कम्पीटीसन के साथ में ग्राहकों के ऊपर ज्यादा फोकस करना चाहिए उन्हें साथ लेकर के ले जाना चाहिए ।
  • Poor management: कई बार हमारे सामने यह भी फेस देखने को मिलता है की हमारा बिजनेस अच्छा चल रहा होता है लेकिन आप ऐसे जगह में चूक जाते है की आपको हवा भी नहीं लगता है । यही सही प्रबंधन नहीं होने के कारन मुनाफा की जगह में घाटा होने लगता है वह भी एक अनुभव हिन् व्यक्ति के रखने से तो इस बात को भी विशेष ध्यान दे की जब भी आप स्टार्टअप आपने कर रहे ही तो आप अनुभव व्यक्ति को पहले प्राथमिकता प्रदान करे ।
  • Lack of focus:ये सबसे ज्यादा मिस्टेक होने वाले में से एक है वह्हाई एक से ज्यादा प्रोडक्ट में ध्यान देना । जब आप एक प्रोडक्ट में ध्यान देते है तो आपका समय भी बहकता है मटेरियल भी कम लगता है और आप बहुत ज्यादा पैसे भी कमा सकते है और इन्वेस्टमेंट भी कम लगते है । जब आप एक साथ कई प्रॉडक्स्ट में ध्यान देते है तो आपका ध्यान सभी प्रोडक्ट में रहता है और आप सभी प्रोडक्ट फोकस करते जिससे आपके एक से अधिक प्रोडक्ट के फ़ैल या बजट में इसका प्रभाव दिखाई देने लगता है ।इसके कारन से आप कई मानसिक रूप से परेशां हो जाते है । और आप सभी तरीके से काम नहीं कर पते है इसलिए पहले शुरुआत में एक PRODUCT के साथ आप स्टार्टअप कर सकते है उसके बाद में आप प्रोडक्ट को बढ़ा सकते है ।
  • Failure to adapt: देखो यार मार्किट में उतर चढ़ाव होता रहता है कभी उसे से जुड़े हुए ने प्रोडक्ट आ गए है कम कीमत में और आप उसी प्रोडक्ट के साथ में ज्यादा कीमत में बैठे हो तो आप फ़ैल Why Do Startups Fail? हो सकते है जैसे की जिओ के आने के बाद में कई सारे नेटवर्क कम्पनिया भारत में बंद हो गई और कई कम्पनीय विलय भी हो गई लेकिन एयरटेल चलता रहा तो इस प्रकार से जैसे ही कोई नई प्रोडक्ट मार्किट में आता है तो उसी के अनुसार हमें भी प्रोडक्ट बना कर के मार्किट में उतरना चाहिए । यानि की कहने का मतलब है की परिस्थिति के अनुसार मार्किट में चलना चाहिए ।
  • Insufficient marketing: जब भी हम मार्किट में स्टार्टअप करते है तो सबसे ज्यादा जरुरी होता है अपने प्रोडक्ट का प्रमोसन या प्रचार करना जितना जयदा प्रचार करेंगे उतना ज्यादा माल की खपत होगी थी इसी तरह से मार्किट में यदि प्रचार प्रसार कम हुआ तो प्रोड्कट के साथ में कंपनी लॉस में चले जाते है और (Why Do So Many Startups Fail) स्टार्टअप बंद होने लगते है मंद पढ़ने लगते है इसलिए कम प्रोड्कट के साथ में ज्यादा प्रचार करे अच्छा प्रोडक्ट रहेगा तो ज्यादा प्रचार करने की जरुरत नहीं पड़ेगी । लोग खुद बा खुद लेने ढूंढ़ते हुए आ जायेंगे ।
  • Poor product/market fit: कई बार होता है की एक से अधिक प्रोडक्ट को बनाने के कारण से हमारे प्रोडक्ट में कमी आ जाती है और मार्किट में हमारा प्रोडक्ट कम बिकने शुरू हो जाते है । लोग कम पसंद करने लगते है जिससे धीरे धीरे मॉल बिकने कम हो जाते है और कंपनी बंद होने लगती है इसलिए इससे बचने के लिए प्रोडक्ट के साथ में रिव्यु भी लेना जरुरी होता है ।
  • Lack of a strong team: कई बार होता है की हम काम अच्छे से कर रहे होते है लेकिन टीम में कोई के कारण से अनबन या फिर बजट के कारण हो सकता है या अनुबह्व लोगो की कमी होने के कररण से स्टार्टअप बंद हो जाते है ।
  • Legal issues:कोई भी कम्पनी को शुरू करने से पहले यह मुख्य आवश्यक होता है की वह साड़ी क़ानूनी कार्य को पहले से पूरा कर ले यदि वह समय से पहले क़ानूनी काम को पूरा नहीं कर पाटा है और वह कंपनी शुरू कर देता है कंपनी अच्छे चल भी रहे होते है लेकिन बिच में लीगल नोटिस आ जाता है तो जिससे कारण से कई बार कम्पनी को सील कर दिया जाता है पूरा बंद कर दिया जाता है या फिर कागजात बनाने के लिए भटकना पड़ता है (Why Do Startups Fail? ) इसलिए कोई भी काम करने से पहले Govt का परमिसन के साथ में करना चाहिए ।
  • Poor customer service:कई बारे ऐसा भी होता है की मांग ज्यादा होने लगी और कम्पनी के पास में सर्विस देने वाला या माल की पूर्ति करने के लिए समान नहीं होते है ऐसे स्थिति में भी भी कंपनी कम Why do startups fail? होने लगते है ।

भारत में स्टार्टअप क्यों विफल होते हैं? | Why do so many startups fail

स्थापना की गलत चिन्हिती: अधिकांश स्थापनाओं को स्थापना की गलत चिन्हिती से होने वाली समस्याएं सामने आती हैं, जैसे कि स्थान, समय, या उद्देश्य से संबंधित समस्याएं।

असफल बजट प्रबंधन: अधिकांश स्थापनाओं को अपने बजट का प्रबंधन करने में समस्याएं होती हैं, जो उनके स्थापना को विफल बना देती हैं।

स्थापना की असफल बीजनेस मॉडल: अधिकांश स्थापनाओं को अपनी बीजनेस मॉडल को सफलतापूर्वक चलाने में समस्याएं होती हैं, जो उनके स्थापना को विफल बना .

कम संभवतः स्थापना: कुछ स्थापनाओं को अपने स्थापना से संबंधित कम संभवतः होने के कारण विफल हो जाते हैं, जैसे कि जब व्यवसाय मार्केट में समस्याएं होती हैं या जब स्थापना मार्केट में समस्याएं होती हैं।

अनुपयुक्त मार्गदर्शन: कुछ स्थापनाओं को अपने मार्गदर्शन से संबंधित समस्याएं होती हैं, जैसे कि जब वे अपने लक्ष्य समुदाय को समझ नहीं पाते हैं

my Opinion

Why do so many startups fail
Why do so many startups fail

ये कुछ पॉइंट्स रहे है जिसके कारन से कई सारे कम्पीय इन कारण से बंद हो जाते है । यदि आप भी कोई Why Do So Many Startups Fail Startups कर रहे है तो आप इन सभी बातो को ध्यान में रखकर के स्ट्रटअप Startups Open कर सकते है । यह सभी पॉइंट को मैंने कम सब्दो में ज्यादा बाते कहते हुए दिया है । यदि इसके बारे में विस्तार दिया जाए तो बहुत लम्बा Point किया जा सकता है क्योंकि मैंने सोचा था की इसे Example के साथ में दू लेकिन ज्यादा लिखने से कम सब्दो में गहरी बात कहना अच्छा होता है इस कारण से मैंने इन्हे Points के माध्यम से जानकारी दिया है ।

मुझे आशा है की आप सभी लोगो को इतने सारे स्टार्टअप असफल क्यों होते हैं ? है इसके बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी यदि आप इस पोस्ट में थोड़े बहुत कमी देखते है तो आप उसे कमेंट कर के हमरे जरूर सजेसन दे सकते है ।

FAQ ANSWER

स्टार्टअप शुरू करने के लिए पहला कदम क्या होना चाहिए *?

स्टार्टअप शुरू करने के लिए, आपको एक स्पष्ट विश्लेषण और योजना बनाने की आवश्यकता होगी। आपको अपनी उद्देश्य और लक्ष्य को स्पष्ट करना होगा, जैसे कि आपकी स्थापना कहां होगी और आप क्या बेचना चाहते हैं। साथ ही, आपको अपने संस्था के लिए एक मार्केटिंग योजना, वित्तीय योजना और व्यवसायिक योजना तैयार करने की आवश्यकता होगी। इनमें से प्रत्येक आपके स्टार्टअप को सुसंगत बनाने में मदद करेगा। साथ ही, आपको अपने स्टार्टअप के लिए एक बीजनेस मॉडल और एक स्थापना प्लान तैयार करने की आवश्यकता होगी।

स्टार्टअप से क्या मतलब है? | Why do so many startups fail

स्टार्टअप एक नए व्यवसाय या उद्योग का शुरूआती चरण होता है। इसमें, एक व्यक्ति या समूह नए व्यवसाय या उद्योग का आयोजन करते हैं, जो अपनी सेवाओं या उत्पादों को बिक्री के माध्यम से सामग्री संचालित करते हैं। स्टार्टअप का लक्ष्य अपनी सेवाओं या उत्पादों को बिक्री के माध्यम से सामग्री संचालित करना होता है, ताकि व्यक्ति या समूह अपनी अर्थव्यवस्था बना सकें और व्यवसाय को सफलता प्राप्त हो सके।

स्टार्टअप इंडिया का मुख्य उद्देश्य क्या है?

स्टार्टअप इंडिया का मुख्य उद्देश्य नए व्यवसायों का आयोजन और उनकी सफलता की ओर मदद करना है। यह भारत में स्टार्टअप संचालन की सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए संचालित होता है, जैसे कि स्थापना से संबंधित सलाहकारी सेवाओं, व्यवसाय योजनाओं और व्यवसायिक प्रशिक्षण सेवाओं की पेशकश। इससे भारत में स्थापनाओं को उनकी सफलता की ओर मदद मिलती है और व्यवसाय का विकास होता है।

स्टार्टअप और बिजनेस में क्या अंतर है?

स्टार्टअप और बिजनेस में अंतर यह है कि स्टार्टअप एक नए व्यवसाय या उद्योग का शुरूआती चरण होता है, जबकि बिजनेस एक सफल व्यवसाय होता है। स्टार्टअप का लक्ष्य अपनी सेवाओं या उत्पादों को बिक्री के माध्यम से सामग्री संचालित करना होता है, ताकि व्यक्ति या समूह अपनी अर्थव्यवस्था बना सकें और व्यवसाय को सफलता प्राप्त हो सके। बिजनेस में, जब स्थापना सफल हो जाती है और व्यवसाय सफलता प्राप्त हो जाता है, तो वह बिजनेस कहलाता है।

इंडिया में कितनी यूनिकॉर्न कंपनी है?

यह स्पष्ट नहीं है कि भारत में कितनी यूनिकॉर्न कंपनियां हैं, क्योंकि यूनिकॉर्न कंपनियां व्यवसाय के विभिन्न क्षेत्रों में हो सकती हैं और यह भी स्पष्ट नहीं है कि सभी यूनिकॉर्न कंपनियां दर्ज हैं या सूचीबद्ध हैं। हालांकि, भारत में अधिकांश यूनिकॉर्न कंपनियां व्यवसाय, विनिर्माण, खरीद-बिक्री, सेवाएं, स्थापना से संबंधित होती हैं।

भारत में कितने स्टार्टअप हैं?

भारत में स्टार्टअप संचालन की सुविधाओं का विकास हो रहा है और इसलिए यह स्पष्ट नहीं है कि भारत में कितने स्टार्टअप हैं। हालांकि, भारत में वर्तमान में अधिकांश स्टार्टअप सेवाओं, उत्पादों, और स्थापनाओं से संबंधित होते हैं। इसलिए, स्टार्टअप से संबंधित व्यवसायों की संख्या में वृद्धि हो रही है और भारत में नए स्टार्टअप स्थापनाओं का आयोजन हो रहा है।

Leave a Reply